VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Tuesday 15th of May 2018 | बघेलखंड भ्रमणशील कार्यशाला का रीवा में समापन

मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग का बघेलखंड भ्रमणशील कार्यशाला का रीवा में समापन


रीवा. मध्यप्रदेष संस्कृति विभाग द्वारा आदिवासी, लोककला एवं संस्कृति पर केन्द्रित बघेलखण्ड भ्रमणशील कार्यशाला का आज समदड़िया होटल रीवा के सभागार में समापन किया गया। इसका आयोजन मध्यप्रदेश नाट़य विद्यालय भोपाल द्वारा किया गया। रीवा से पूर्व यह भ्रमणशील कार्यशाला सीधी में भी आयोजित की गयी थी|

इस अवसर पर कार्यशाला में उपस्थित उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि कला और साहित्य को सहेज कर उसे अक्षुण्ण बनाये रखना है। इनके संवर्धन के लिये लगातार प्रयास जारी रखना है। आगे आने वाली पीढी इससे जुडे जिससे उनका व्यक्तित्व विकास हो और वे आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि विन्ध्य में कला और संस्कृति के क्षेत्र में एक से बढ़कर एक प्रतिभाशाली व्यक्ति हैं, जिन्हें बेहतर प्रेरणा और मंच मिले तो वे अपनी प्रतिभा प्रदर्षन कर सकते हैं। उद्योग मंत्री ने नाट़य टोली द्वारा पहली बार कादम्बरी नाटक का मंचन रीवा में करने के प्रस्ताव पर उन्हें यह नाटक राजकपूर आडिटोरियम में करने के लिये आमंत्रित किया।

इसके साथ ही पांच दिवसीय नाट़य समारोह के आयोजन के लिये भी मंत्री श्री शुक्ल ने अपनी मंशा व्यक्त की। उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजन विन्ध्य धरा में राजकपूर आडिटोरियम में होंगा तो इसकी अनुगूंज प्रतिध्वनित होगी।

कार्यशाला में नाट़य निर्देशक संजय उपाध्याय, प्रो. सत्यदेव त्रिपाठी, डॉ. चन्द्रिका प्रसाद चन्द्र, डॉ. जयराम शुक्ल, डॉ. अमोल बटलोही, योगेश त्रिपाठी सहित नाट्य विद्यालय के विद्यार्थी सहित साहित्य एवं लोककला प्रेमी उपस्थित थे।

कार्यक्रम में बघेलखण्ड नृत्य लिल्ली घोड़ी की मनमोहक की प्रस्तुति भी दी गई, तथा प्रस्तुति में वीर शहीद ठाकुर रणमत सिंह के शौर्य का नृत्य के माध्यम से वर्णन किया गया. उपस्थित कलाप्रेमियों के द्वारा नृत्य की प्रशंसा की गयी.

 


दुकान में रखे सामानों का हुआ नुकसान, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

आईजी ने छात्रों से नशे और अपराधों से दूर रहने की अपील, अपराधों पर लगाम लगाने क


 VT PADTAL