VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Tuesday 15th of May 2018 | बघेलखंड भ्रमणशील कार्यशाला का रीवा में समापन

मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग का बघेलखंड भ्रमणशील कार्यशाला का रीवा में समापन


रीवा. मध्यप्रदेष संस्कृति विभाग द्वारा आदिवासी, लोककला एवं संस्कृति पर केन्द्रित बघेलखण्ड भ्रमणशील कार्यशाला का आज समदड़िया होटल रीवा के सभागार में समापन किया गया। इसका आयोजन मध्यप्रदेश नाट़य विद्यालय भोपाल द्वारा किया गया। रीवा से पूर्व यह भ्रमणशील कार्यशाला सीधी में भी आयोजित की गयी थी|

इस अवसर पर कार्यशाला में उपस्थित उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि कला और साहित्य को सहेज कर उसे अक्षुण्ण बनाये रखना है। इनके संवर्धन के लिये लगातार प्रयास जारी रखना है। आगे आने वाली पीढी इससे जुडे जिससे उनका व्यक्तित्व विकास हो और वे आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि विन्ध्य में कला और संस्कृति के क्षेत्र में एक से बढ़कर एक प्रतिभाशाली व्यक्ति हैं, जिन्हें बेहतर प्रेरणा और मंच मिले तो वे अपनी प्रतिभा प्रदर्षन कर सकते हैं। उद्योग मंत्री ने नाट़य टोली द्वारा पहली बार कादम्बरी नाटक का मंचन रीवा में करने के प्रस्ताव पर उन्हें यह नाटक राजकपूर आडिटोरियम में करने के लिये आमंत्रित किया।

इसके साथ ही पांच दिवसीय नाट़य समारोह के आयोजन के लिये भी मंत्री श्री शुक्ल ने अपनी मंशा व्यक्त की। उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजन विन्ध्य धरा में राजकपूर आडिटोरियम में होंगा तो इसकी अनुगूंज प्रतिध्वनित होगी।

कार्यशाला में नाट़य निर्देशक संजय उपाध्याय, प्रो. सत्यदेव त्रिपाठी, डॉ. चन्द्रिका प्रसाद चन्द्र, डॉ. जयराम शुक्ल, डॉ. अमोल बटलोही, योगेश त्रिपाठी सहित नाट्य विद्यालय के विद्यार्थी सहित साहित्य एवं लोककला प्रेमी उपस्थित थे।

कार्यक्रम में बघेलखण्ड नृत्य लिल्ली घोड़ी की मनमोहक की प्रस्तुति भी दी गई, तथा प्रस्तुति में वीर शहीद ठाकुर रणमत सिंह के शौर्य का नृत्य के माध्यम से वर्णन किया गया. उपस्थित कलाप्रेमियों के द्वारा नृत्य की प्रशंसा की गयी.

 


केरल बाढ़ पीड़ितो की मदद के लिए आगे आई शहर की प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान

अस्पताल परिसर से चोरी हुई बोलेरो वाहन, सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, मचा हड़


 VT PADTAL