VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Wednesday 16th of May 2018 | टायलेट से मिली अवैध सोने के बिस्किट की 30 बार

विमान के टायलेट से मिली अवैध सोने के बिस्किट की 30 बार


दिल्ली से इंदौर आए जेट एयरवेज के विमान (9डब्ल्यू-793) के वॉशरूम से साढ़े तीन किलो सोने के 30 बिस्किट मिले हैं समझा जा रहा है कि यह भी पहले सामने आए मामलों की तरह ही है जिसमें तस्कर ऐसा विमान चुनते जो विदेश से आने के बाद घरेलू सेवा में भी उड़ान भरता था इस तरह छिपे हुए सोने पर कस्टम ड्यूटी बचा ली जाती थी

दरअसल रात को यह विमान इंदौर में ही रुकता है और अगली सुबह 6.10 बजे मुंबई रवाना होता है इसलिए जब जेट के सुरक्षा अधिकारी अभिजीत नायक को इसकी खबर हुई तभी उन्होने इसकी सूचना कस्टम विभाग को दी कस्टम ने डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) को बताया. डीआरआई ने रात 2 बजे बिस्किट जब्त किए विमान दुबई से दिल्ली होते हुए इंदौर आया था. सोने की कीमत करीब 1 करोड़ 13 लाख 79 हजार रुपए है
और हर बिस्किट का वजन 116.63 ग्राम के करीब है.

आपको बतादें एयरपोर्ट पर जेट एयरवेज की फ्लाइट से जब्त हुए साढ़े तीन किलो सोने के 30 बिस्किट यूएई की एआरजी कंपनी के हैं. सूत्रों की मानें तो स्मगलिंग के तहत इस तरह के प्रयास किए जाते हैं. संभावना है कि इस विमान को ट्रैक करने में हुई चूक के कारण इसमें से सोना निकाला नहीं जा सका ऐसा भी बताया जा रहा है कि संभवत: इस विमान को कहीं और जाना था और यह इंदौर आ गया, जिस कारण मामला पकड़ा गया. दुबई या गल्फ कंट्री से यात्री अपने साथ सोना खरीदकर लाते हैं वहां से इस तरह से सोना लाने पर कोई रोक नहीं है, लेकिन भारत में सोने के बिस्किट (बुलियन) लाना अवैध है, इसलिए इसे विमान में ही छुपा देते हैं बाद में विमान को ट्रैक करते हैं कि यह अंतरराष्ट्रीय मार्ग से आने के बाद देश में डोमेस्टिक फ्लाइट के रूप में कहां जा रहा है.

बताया जा रहा है कि डीआरआई दुबई एयरपोर्ट से जानकारी निकालेगा कि वहां से इतना सोना लेकर कौन आया था

देश के अलग-अलग शहरों में जेवर बनाने के लिए ज्वेलर्स बैंकों और शासन द्वारा अधिकृत संस्था से ही सोना खरीद सकते हैं, इसलिए उन्हें इस खरीदी और इससे बने जेवर की पूरी बिक्री और उस पर सभी कर चुकाने होते हैं, इससे बचने के लिए ही सोने की स्मगलिंग होती है सोना लाने के लिए गल्फ कंट्री सबसे पसंदीदा रहती है.


पिछड़ा वर्ग सम्मलेन के लिए बस ऑनर्स एसोसिएशन ने किया बस देने से इनकार

तिलहन फसलों पर केंद्र सरकार देगी किसानों को भावान्तर का फायदा


 VT PADTAL