VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
अब सभी विभागों में इस एप से लगेगी हाजिरी

फिर लागू होगा एम शिक्षा मित्र एप, शिक्षक और विद्यार्थियों की लगेगी हाजरी


मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने हाल ही में एक घोषणा की थी जिसमें उन्होने शिक्षा विभाग में एमशिक्षा मित्र नामक एप की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया था. सीएम शिवराज ने कहा था केवल एक विभाग में इसे लागू करना अपमानकारक है लेकिन अब एक बार फिर उन्होंने ही निर्देशित किया है कि 15 जून से एमशिक्षा मित्र लागू हो जाएगा जिससे अब शिक्षा विभाग के सभी कर्मचारियों सहित विद्यार्थियों की भी हाजिरी इसी से लगाई जाएगी.

सीएम ने कहा है कि गर्मी की छुट्टियों के खत्म होने के बाद 15 जून से प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों के खुलने के साथ ही शिक्षक और विद्यार्थियों को ऑनलाइन हाजिरी लगानी होगी.

दरअसल शिक्षा विभाग की पर्रमुख सचिव दीप्ती गौड़ मुखर्जी ने 5 जून तक एम शिक्षा मित्र एप डाउनलोड करने के निर्देश प्रदेशभर के सभी स्कूलों के लिए जारी कर दिया है

आपको बतादें शिक्षकों के विरोध के चलते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 48 दिन पहले 30 मार्च को इस योजना को समाप्त करने की घोषणा की थी अब मुख्यमंत्री ने ही इसको दोबारा लागू करने के निर्देश दिए हैं.

वीडियो कांफ्रेंसिंग में स्कूल शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव मुखर्जी ने बताया कि एम शिक्षा मित्र को लेकर सीएम ने अपनी सहमति दे दी है लिहाजा एप डाउनलोड कराने का काम तुरंत और तेजी से किया जाए शिक्षक ऑफ लाइन होने पर भी हाजिरी लगा सकेंगे, जैसे ही वे नेटवर्क क्षेत्र में आएंगे उपस्थिति स्वत: लग जाएगी जो ऐसा नहीं करेंगे, उनका वेतन नहीं बनेगा

बतादें अब यह एम शिक्षा मित्र एप सभी विभागों के लिए लागू किया जा रहा है इससे पहले जहां सिर्फ शिक्षकों और विद्यार्थियों की हाजिरी इससे लगना थी, अब सभी विभागों के कर्मचारी और अधिकारियों की हाजिरी इसी से लगेगी एक-दो दिन में इसको लेकर नए और स्पष्ट निर्देश भी बनाये जा सकते.

एप के अंदर विद्यार्थी विकल्प में योजनाएं व छात्रवृत्ति की स्थिति, आरटीई में आवंटन, प्रवेश व अन्य जानकारी रहेगी

शिक्षक, स्कूल, विद्यार्थी और आरटीई सहित ज्ञानार्जन नाम से छह विकल्प होंगे.

 


कुलपति बनने के जुगाड़ समाप्त, शैक्षणिक अनुभव वाले की बन सकेंगे कुलपति !

बीजेपी ने की लोकसभा की तैयारी, प्रदेश के 14 सांसदों के कट सकते हैं टिकट


 VT PADTAL