VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Wednesday 23rd of May 2018 | मर रहे किसान, यात्राओं में व्यस्त सरकार: कमलनाथ

किसान मर रहे, सरकार विकास यात्राओं में व्यस्त: कमलनाथ


चुनावी साल में अब कांग्रेस किसानों का मुद्दा बनाकर सरकार को चौतरफा घेरने में लगी है जिसके लिए पीसीसी चीफ कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को मंडी में पहुंचकर प्रदर्शन करने को कहा है उन्होंने कहा है कि शिवराज सरकार किसानों की मौत से बेखबर है वह केवल घोषणाओं और विकास यात्राओं में व्यस्त है सरकार को इस कुंभकर्णी नींद से जगाने के लिए धरना-प्रदर्शन करना होगा, जिससे किसानों की आवाज किसान विरोधी सरकार तक पहुंचाई जा सके.

दरअसल राजगढ़ में मंगलवार को भीषण गर्मी में उपज की तुलाई का इंतजार कर रहे किसान की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी वहीं इसके पहले विदिशा के लटेरी में भी एक किसान की तुलाई का इंतजार करते समय मौत हो गई थी जिसपर अब कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे को हवा देकर भाजपा सरकार को घेरने में जुटी है.

कमलनाथ ने कहा कि चारों ओर अव्यवस्था का आलम है मंडी में फसल बेचने के लिए एक-एक किसान का नंबर तीन से चार दिनों में आ रहा है, जिसके चलते तुलाई के इंतज़ार में किसान परेशान हो रहा है प्रदेश में एक सप्ताह में दो किसानों की मौत हो चुकी है शिवराज सरकार किसानों की परेशानी से बेख़बर होकर विकास यात्राओं व घोषणाओं में व्यस्त है.

कमलनाथ का आरोप है कि मप्र में पिछले 14 साल में 16000 से अधिक किसान आत्महत्या कर चुके हैं और शिवराज ने मध्यप्रदेश को मृत्युप्रदेश तथा खेत-खलिहानों को श्मशान बना दिया हैं. किसानों को मरने की हद तक लाचार करने वाली सरकार और शासक की विदाई का वक़्त आ गया है.


एट्रोसिटी एक्ट पर शिवराज के बयान पर कपिल सिब्बल ने किया पलटवार

बहुजन समाज पार्टी ने जारी किये 22 प्रत्याशियों के नाम


 VT PADTAL