VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Sunday 27th of May 2018 | फिर मिले तीन कुपोषित बच्चे

फिर मिले तीन कुपोषित बच्चे, दो की मौत एक की हातल है गंभीर


प्रदेश सरकार कुपोषण पीड़ित बच्चों के लिए नित नई नई योजनायें चला रही है तथा उन बच्चों के इलाज का वादा कर रही है लेकिन प्रदेश में आए दिन बच्चें कुपोषण की चपेट में आ रहे हैं और सरकार तो सिर्फ आपने वादे और दावे तक ही काम कर पा रही है लेकिन उसमें भी कुपोषित बच्चों के परिवार वालों को समझा पाने में प्रशासन कमजोर साबित हो रहा है.

ताजा मामला आया है ग्लालियर जिले के मलगढ़ा थाना क्षेत्र में बसी आदिवासी बस्ती का जहां डेढ़ महीने पहले कुपोषण के शिकार मिले तीन बच्चों में से दो की इलाज के दौरान अस्पताल में मौत हो गई जबकि एक की हालत गंभीर है हालाकि अब बच्चें के माता-पिता उसे अस्पताल में भर्ती कराने को तैयार नहीं हैं. लेकिन प्रशासन अभी तक उस मासूम बच्चे के परिजनों को समझाने की कोशिश में जुटा है.

शनिवार को महिला बाल विकास की टीम के साथ तहसीलदार भूपेंद्र सिंह कुशवाह, एसडीएम दीपशिखा भगत और पुलिस बस्ती में पहुंची थीं. परंतु बच्चे के माता-पिता उसे अस्पताल ले जाने पर राजी नहीं हुए बच्चे का नाम वंश (10 माह) पुत्र नरेंद्र आदिवासी है नरेंद्र का कहना है कि अस्पताल ले जाने से बच्चों की मौत हो जाती है जबकि उसकी पत्नी गिरिजा का कहना है कि जब तक पति नहीं कहेंगे, वह बच्चे को कहीं नहीं ले जाएगी दोपहर 2 बजे से शाम 6 बजे तक समझाने में नाकाम रहे अफसर मौके से लौट आए.

मलगढ़ा बस्ती में डेढ़ माह पहले विभाग की टीम गई थी तीन बच्चे अतिकुपोषित, कुपोषित मिले थे इनमें से दो विवेक और राधिका की इलाज के दौरान मौत हो गई वहीं तीसरा बच्चा वंश गंभीर है.

तहसीलदार भूपेंद्र सिंह कुशवाह ने बताया कि वंश के पिता नरेंद्र और मां गिरिजा महिला बाल विकास की टीम की समझाइश के बाद उसके इलाज के लिए तैयार नहीं हुए इसके बाद पुलिस बुलाई थी वे फिर भी बच्चे को भर्ती कराने को तैयार नहीं हैं तहसीलदार का कहना है कि रविवार को पुन: वह परिजनों को समझाने के लिए जायेगें तथा बच्चे को अस्पताल में भर्ती करायेंगे.

 


एट्रोसिटी एक्ट पर शिवराज के बयान पर कपिल सिब्बल ने किया पलटवार

बहुजन समाज पार्टी ने जारी किये 22 प्रत्याशियों के नाम


 VT PADTAL