VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Saturday 2nd of June 2018 | दुसरे दिन भी नहीं दिखा किसान आंदोलन का प्रभाव

गांव बंद आंदोलन का दूसरा दिन आज, नहीं दिखा किसान आंदोलन का प्रभाव


कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने सहित 32 मांगों को लेकर 1 से 10 जून तक देश के सभी किसान आंदोलन पर है आंदोलन का असर राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश में दिखाई दे रहा है सके साथ ही मप्र में आंदोलन का मुख्य केंद्र मंदसौर है मंदसौर यह वहीं जगह है जहां पर पिछले वर्ष में किसानों की हत्याऐं हुई थी. किसान आंदोलन को देखते हुए सरकार ने इंदौर-उज्जैन संभाग के कई जिलों को हाईअलर्ट पर रखा है और यहां पर धारा 144 लागू की गई है.

दरअसल किसानों के द्वारा किए गए गांव बंद आंदोलन का प्रारूप कुछ इस तरह रखा गया है जिसके तहत 1 से 4 जून तक गांवों में युवाओं के सांस्कृतिक कार्यक्रम और पुरानी खेल गतिविधियां होंगी इसके बाद 5 जून को धिक्कार दिवस मनाएंगे गांवों में ही चौपालें होंगी, जिसमें किसान विरोधी फैसलों पर चर्चा की जाएगी और 6 जून को पिछले साल मारे गए किसानों को शहीद मानते हुए श्रद्धांजलि सभा आयोजित कराई जायेगी वहीं 8 जून को असहयोग दिवस मनाया जाएगा तथा 10 जून को भारत बंद रहेगा.

सुरक्षा व्यवस्था के लिए 11 जोनल आईजी को अतिरिक्त फोर्स दिया गया है इसमें उज्जैन, इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, चंबल, जबलपुर जैसे बड़े जोन में लगभग 500-500 रंगरूट (नव आरक्षक) और एसएएफ की दो कंपनियां (लगभग एक कंपनी में 100 जवान) दिए गए हैं.
इस प्रकार से बड़े जोन को लगभग 700 जवान अतिरिक्त दिए गए हैं जिन जिलों में आंदोलन का असर नहीं होगा, वहां एक-एक कंपनी दी गई है इसके अलावा एसएएफ की 89 कंपनियां कानून व्यवस्था के लिए दी गई हैं.
आंदोलन को देखते हुए मुख्य केंद्र मंदसौर को पुलिस ने 20 जोन में बांट दिया है 100 जगह कैमरे लगाए गए हैं मंदसौर, रतलाम, नीमच को जोड़ने वाले हाईवे को 10 सेक्टर में बांटकर फोर्स तैनात किया गया है.
मंदसौर, नीमच, रतलाम सहित प्रदेश के 35 संवेदनशील जिलों में उपद्रवियों से निपटने के लिए पुलिस को 10 हजार अतिरिक्त लाठियां दी गई हैं.


विन्ध्या टाइम्स की खबर पर लगी मुहर रीवा,सीधी,सतना में सांसद रिपीट

छापेमारी के बाद फूट-फूट कर रोई दबंग विधायक, सीबीआई जांच कराए जाने की मांग


 VT PADTAL