VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Wednesday 20th of June 2018 | चुनावी सर्वे में होगा धार्मिक आंकलन

चुनावी सर्वे में होगा धार्मिक आंकलन


मध्यप्रदेश में होने जा रहे आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर अब दोनों ही पार्टियों ने अपनी-अपनी तरफ से चुनावी सर्वे कराना शुरु कर दिया है. अपने सर्वे के तौर पर जहां एक ओर बीजेपी ने 200 के लक्ष्य को पार करने की बात की है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने भी 116 के जादुई आंकड़े को पार कर 119 सीटों पर जीत दर्ज करने का लक्ष्य रखा है. लेकिन अब इन लक्ष्यों को भेदने के लिए दोनो ही पार्टियों के द्वारा धार्मिक आंकलन की तैयारी भी की जा रही है जिसके माध्यम से सर्वे में धर्म के आधार पर वोटर्स गिने जा सके.

दरअसल इसी तरह का एक चुनावी सर्वे इस समय पर कांग्रेस पार्टी के द्वारा भी कराया जा रहा है जिसमें प्रदेश की प्रत्येक विधानसभा सीटों पर फार्म भरवाए जा रहे है और उन विधानसभा सीटों की प्रमुख धर्म स्थली तथा धर्म से जुड़ी अन्य बातों का जिक्र किया गया है.

इतना ही नहीं फॉर्म में चुनावी मुददों के आधार पर विधायक के चयन को लेकर भी धर्म हावी है चुनावी मुददे के विषय में विधायक के चयन को लेकर धर्म के आधार पर सवाल पूछा गया है प्रश्न है कि विधायक के चयन का प्रमुख मुददा क्या रहेगा. इसमें जाति धर्म के साथ क्षेत्रीय मुददे का भी ऑप्शन दिया गया है.

आपको बतादें प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव की दृष्टिकोण के आधार पर सर्वे होना तो जरुरी ही है लेकिन फिर भी धर्मिक आंकलन करना किस हद तक सही माना जाए.


विन्ध्या टाइम्स की खबर पर लगी मुहर रीवा,सीधी,सतना में सांसद रिपीट

छापेमारी के बाद फूट-फूट कर रोई दबंग विधायक, सीबीआई जांच कराए जाने की मांग


 VT PADTAL