VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
ऊपर से गुजरी ट्रेन, माँ-बेटे को नही आई खंरोच

100 किमी. की रफ़्तार से गुजरी ट्रेन, पटरी में लेटे माँ बेटे को खरोंच तक नही आई


 

‘जाको रखे साइयां मारि सके न कोय’ यह कहावत आज चरितार्थ हुई बुरहानपुर रेलवे स्टेशन के पास जहाँ एक महिला अपने १ माह के बच्चे के साथ आत्महत्या के प्रयास में ट्रेन की पटरी में लेट गयी, मगर उनके उपर से 100 किमी, की रफ़्तार से पूरी ट्रेन गुजरने के बाद भी उन्हें खरोच तक नही आई

दरअसल सुबह 11.20 बजे काशी एक्सप्रेस पहुंची, तब पिछले सामान्य डिब्बे से तबस्सुम पति साजिद अली (25) निवासी जांबली, प्रतापगढ़ (उप्र) ट्रेन से उतरी। यात्रियों के अनुसार दूसरी लाइन पर पुष्पक एक्क्सप्रेस आ रही थी, तभी तबस्सुम बच्चे को पेट पर रखकर पटरियों के बीच लेट गई। यात्री कुछ समझ पाते इससे पहले ट्रेन तेज गति से महिला और बच्चे के ऊपर से निकल गई। महिला और बच्चा दोनों सुरक्षित थे। जानकारी मिलते ही स्टेशन मास्टर आशाराम नागवंशी मौके पर पहुंचे और महिला को प्लेटफॉर्म पर बैठाया।

महिला ने बताया कि वह पति के साथ मुंबई जा रही थी। उसका बेटा एक माह का है। पति मुंबई में मजदूरी करता है। ट्रेन में दोनों साथ चले थे लेकिन बाद में पति कहीं चला गया। उसने काफी खोजा, फिर परेशान होकर आत्महत्या का प्रयास किया।लोगों के अनुसार महिला मानसिक रूप से कमजोर है और बार-बार बयान बदल रही थी। स्टेशन मास्टर नागवंशी ने महिला एवं बाल विकास विभाग को मामले की सूचना दी। बाद में विभाग की सुवर्णा नागवंशी और जीआरपी के जवान के साथ हॉलिडे एक्सप्रेस से महिला को बुरहानपुर भेजा गया। घटना के बाद आधा घंंटा काशी एक्सप्रेस स्टेशन पर खड़ी रही।

 


कुलपति बनने के जुगाड़ समाप्त, शैक्षणिक अनुभव वाले की बन सकेंगे कुलपति !

बीजेपी ने की लोकसभा की तैयारी, प्रदेश के 14 सांसदों के कट सकते हैं टिकट


 VT PADTAL