VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
कांग्रेस की एकता यात्रा में दिग्गी ने पढ़ाया एकता का पाठ

कांग्रेस की एकता यात्रा में दिग्गी ने पढ़ाया एकता का पाठ


मध्यप्रदेश में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने कमर कस ली है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पूरे प्रदेश में कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर रहे है. उज्जैन में कार्यकर्ताओं को एकता का पाठ पढ़़ाते हुए कांग्रेस समन्वय समिति के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने कहा कि अभी हर जगह मुझे टिकट की भीड़ दिख रही है. टिकट मिलने के बाद यह भीड रहेगी या नहीं. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि सेल्फी भी एक बड़ी समस्या हो गई है जिससे काफी परेशानी होती है.

दरअसल, एक तरफ तो अमित शाह और प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान जुलाई माह में मध्यप्रदेश में जनआर्शीवाद यात्रा की शुरूआत कर चुनावी शंखनाद करने वाले है. वहीं दूसरी और कांग्रेस के दिग्गज नेता मध्यप्रदेश के जिलों में कार्यकर्ताओं को एकजुट करने में जुट गए है. कमलनाथ के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह को समन्वय समिति का अध्यक्ष बनाया. कांग्रेसियों को एक करने के लिए दिग्विजय सिंह पूरे प्रदेश में एकता यात्रा निकाल रहे है. 11 जिलों से होकर दिग्विजय सिंह की एकता यात्रा उज्जैन पहुंची जहां दिग्विजय सिंह ने जिले की 7 विधानसभा के कार्यकर्ताओं को एकता का पाठ पढ़ाया दिग्विजय सिंह ने कहा कि हम जहां-जहां गए वहां कार्यकर्ताओं ने कहा कि कांग्रेस एक हो जाए तो प्रदेश में सरकार बन जाएगी. लेकिन अभी जो भीड़ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मुझे दिखाई दे रही है. वह भीड टिकट की भीड़ है.

दिग्विजय सिंह ने कहा कि समिति का काम टिकट बांटना नहीं है, लेकिन टिकट मिलने के बाद यह भीड़ रहे या न रहे पता नहीं. कार्यकर्ताओं की सेल्फी लेना भी एक बड़ी समस्या हो गई है. मैं नर्मदा यात्रा पर गया तो वहां तीन तरह की यात्रा हुई. एक यात्रा जो नर्मदा मैया की थी, दूसरी यात्रा सेल्फी यात्रा थी, जिसमें कार्यकर्ता सेल्फी लेकर सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते है और तीसरी यात्रा टिकट यात्रा रही. जिसमें प्रदेश भर से कांग्रेस नेता टिकट की रिकमेंट करने के लिए आए थे. घटिया और तराना में एक सीट पर 28 दावेदार है , बड़ा नेता क्या सोचता है की विधायक अपने जेब का बना लो ताकि वो मेरे पीछे पीछे घूमता रहे.


कुलपति बनने के जुगाड़ समाप्त, शैक्षणिक अनुभव वाले की बन सकेंगे कुलपति !

बीजेपी ने की लोकसभा की तैयारी, प्रदेश के 14 सांसदों के कट सकते हैं टिकट


 VT PADTAL