VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
आषाढ़ मास शुरू होते ही सज गया चिराहुलानाथ का दरबार

चिरहुला नाथ मंदिर में शुरू हुआ हर वर्ष लगने वाला मेला,पूरे अषाढ़ मास में हजारों भक्त करेंगे पूजा-अर्चना


विंध्य क्षेत्र  का सुप्रसिद्ध मंदिर भक्तों के आस्था का केंद्र चिरहुला नाथ मंदिर में एक माह तक चलने वाला मेला शुरू हो गया है। जिसमें विंध्य क्षेत्र की खुशहाली और अच्छी बारिश के लिए कामना की जाएगी | भक्तों की अपार भीड़ को देखते हुए मंदिर प्रशासन मुस्तैद है और भक्तो के लिए सुविधाएं भी बनाई गई हैं। बैरीकेड्स लगाकर चिरहुलानाथ के दर्शन के लिए आने वाले भक्तों को नियंत्रित किया जाएगा। मंदिर से भक्तों का विशेष लगाव और आस्था होने के साथ ही अषाढ़ मास में मेले की वर्षों पुरानी परंपरा भी है।

इस दौरान मंदिर में पहुंचकर भक्तों द्वारा पूजा-अर्चना के साथ ही भगवान सत्य नारायण की कथा, मानस पाठ, सुंदरकांड पाठ व भण्डारे का भी आयोजन किया जाता है। संकट मोचन हनुमान को प्रसन्न करने के लिए सिंदूर, फूल और कपड़े आदि चढ़ाकर पूजा-अर्चना की जा रही है। सर्वाधिक भीड़ मंगलवार और शनिवार को पहुंचती है। जिसके चलते इस दिन पुलिस बल तैनात रहने के साथ ही मंदिर प्रशासन द्वारा भी व्यवस्थाएं बनाई जाती हैं। गुरू पूर्णिमा पर हजारों भक्त मंदिर में पहुंचकर अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए पूजा-अर्चना करेंगे।

आषाढ़ मास में भक्तों की बढ़ती भीड़ और मेले को देखते हुए व्यापारियों ने भी दुकानें सजा ली हैं। फूल-प्रसाद व्यापारियों ने जहां पर्याप्त प्रसाद का स्टाक किया है वहीं खिलौना और घरेलू उपयोग की सामग्री के व्यापारियों ने भी अपनी दुकानें लगा ली हैं। व्यापारियों को उम्मीद है कि इस वर्ष भी उन्हें एक माह तक व्यापार करने का अच्छा मौका मिलेगा। खाने-पीने और मनोरंजन की भी सुविधा उपलब्ध है | 


सितम्बर से दी जाएगी दिल्ली मेट्रो को बिजली

भय के साये में निवास करते पिछड़ा वर्ग छात्रावास के छात्र, जर्जर भवन बनी पढ़ा


 VT PADTAL