VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Thursday 12th of July 2018 | सरकार से असंतुष्ट है अध्यापक !

संविलियन और सातवें वेतनमान संबधी आदेश जारी नही होने से अध्यापक वर्ग असंतुष्ट


सालों से संविलियन और सातवें वेतनमान की मांग पर अभी तक मध्यप्रदेश सरकार की तरफ से कोई आदेश जारी नही किये जाने से अब अध्यापक वर्ग में आक्रोश पनप रहा है, चुनावी साल में इस तरह के आक्रोश से सरकार को नुकसान उठाना पड सकता है, राज्य कैबिनेट की ओर से अध्यापकों के लिए सातवें वेतनमान दिए जाने के लिए मंजूरी दी जा चुकी है मगर अब तक इस आवत कोई आदेश नही निकाले गए हैं

दरअसल राज्य कैबिनेट ने 29 मई को 2.37 लाख अध्यापकों के संविलियन एवं 1 जुलाई 2018 से सातवां वेतनमान देने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इसके बाद अध्यापक आदेश के इंतजार में है। इस बीच 15 जून से नया शैक्षणिक सत्र भी शुरू हो गया है, लेकिन न तो संविलियन संबंधी आदेश जारी हुआ है और न ही वेतनमान संबंधी कोई निर्देश जारी किए गए। तथा सरकार ने  1 जुलाई से सातवां वेतनमान देने का तय किया है, लेकिन 10 जुलाई तक भी आदेश जारी नहीं किए गए है, न ही कोई नियम प्रक्रिया बनाई गई है।

दरअसल अध्यापकों के संविलियन को लेकर शिक्षा विभाग उलझन में पड़ गया है। क्योंकि संविलियन के बाद अध्यापकों को शिक्षा विभाग में किस आधार पर वरिष्ठता तय की जाए, फिलहाल इस पर मंथन चल रहा है। इसके अलावा अध्यापक एवं सहायक अध्यापकों को शिक्षा विभाग के कौन-कौन से पद पर रखा जाए। उन्हें कितने साल पर पदोन्नति दी जाए। वरिष्ठ का फायदा कैसे दिया जाए, यह भी तय नहीं हुआ है।

चुनावी साल में सभी वर्गों को खुश करने के लिए सरकार के द्वारा कई घोशनाए की जा रही है मगर अध्यापकों की मांगों को अमल में नही लाये जाने के अब शिक्षकों को आक्रोश साफ़ तौर पर देखा जा सकता है, ऐसे में भाजपा सरकार की चिंता भी बढ़ने लगी, वही दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी अध्यपकों की नाराजगी को अपनी लिए भुनाने के प्रयत्न में दिखाई दे रही है, दरअसल कांग्रेस नेता लगातार शिक्षक संवर्ग के संपर्क में हैं


भाजपा नेताओं के रात भर आते हैं फोन, 11 दिसंबर की शाम को बताउंगा कौन कौन करता है

बीजेपी को फायदा पहुचाने के लिए लड़ रहा हूँ निर्दलीय चुनाव: पूर्व मंत्री


 VT PADTAL