VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Thursday 12th of July 2018 | सिहावल के रण का बाजीगर कौन

सीधी के सिहावल सीट में इस बार आर-पार की लड़ाई


मध्यप्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव के लिए हर विधानसभा सीट में नेताओं में टिकट के लिए दौड़ शुरू हो गई है| वहीं इससे इतर 2008 में अस्तित्व में आये सिहावल विधानसभा क्षेत्र की कहानी कुछ और ही है | इस विधानसभा क्षेत्र में सीधी जिले का सिहावल ब्लॉक व सिंगरौली जिले के देवसर ब्लॉक का हिस्सा शामिल है। 2008 में कांग्रेस के इंद्रजीत कुमार पटेल को भाजपा के विश्वामित्र पाठक ने हराया था। 2013 में हुए चुनाव में इंद्रजीत कुमार के बेटे कमलेश्वर पटेल ने विश्वामित्र पाठक को हराकर 2008 का बदला ले लिया था। हालांकि अब 2018 के चुनाव को लेकर माना जा रहा है कि यदि भाजपा से पाठक को टिकट मिलती है तो मुकाबला तगड़ा रहेगा।

आगामी चुनाव में कांग्रेस की ओर कमलेश्वर पटेल को ही टिकट मिलना लगभग तय है, क्योंकि यहां अन्य कोई नेता दावेदारी पेश नहीं कर रहा है। दरअसल यह विधानसभा पूर्व मंत्री इंद्रजीत कुमार का गृह गांव है और वर्तमान में उनके बेटे कमलेश्वर पटेल विधायक हैं। वहीं भाजपा की ओर से सेवानिवृत जिला आबकारी अधिकारी देवेंद्रनाथ चतुर्वेदी जो इस समय प्रदेश किसान मोर्चा के कोषाध्यक्ष भी हैं, भाजपा से दावेदारी पेश कर सकते हैं।

वैसे यहां तीसरी पार्टी के रूप में बसपा और सपा को माना जा रहा है। अगर 2008 और 2013 के चुनाव में बसपा को मिले वोटों की तुलना की जाए तो उसका वोट लगातार बढ़ रहा है। इसीलिए आगामी विधानसभा चुनाव में बसपा को अनदेखा भी नहीं किया जा सकता है। इसके बावजूद यहां असली मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच ही रहेगा। दोनों ही पार्टी एक-एक चुनाव जीत चुकी हैं, दोनों की गांव-गांव तक पहुंच है, ऐसे में 2018 में कौन बाजी मारेगा, यह स्थानीय लोगों के लिए दिलचस्प रहेगा।


बिहारः धनबाद कोर्ट ने मंत्री के खिलाफ जमानती वारंट जारी करने का दिया आदेश

बोले बीजेपी नेता- प्रदेश को नहीं चाहिए रोतेला मुख्यमंत्री, कांग्रेस राज में


 VT PADTAL