VT Update
अपने बयान पर अड़े कांग्रेस विधायक सुंदरलाल तिवारी, बोले फिर से कहता हूँ वैश्याऐं शिवराज से हैं बेहतर जिले के जनेह थाने में पुलिस अभिरक्षा पर हुई युवक की मौत में अब तक बरकरार तनाव की स्थिति, एहतियात के तौर पर तैनात पुलिस बल, थाना प्रभारी हुए लाइन अटैच रीवा में कांग्रेस प्रभारी बावरिया से हुई झूमाझटकी में दो और कार्यकर्तओं पर कार्यवाई, अब तक सात कार्यकर्ता पार्टी से निष्काषित, तीन को जारी हुई नेटिस मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में एकबार फिर शर्मशार हुई इंसानियत, 6 साल की मासूम क साथ दुष्कर्म कर गला घोट जंगल में फेंका पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब, बेटी नमिता ने दी मुखाग्नि, जनता की नम आखों से विदा हुए अटल
म.प्र. में बीजेपी फिर बना लेगी सरकार  ?

गठबंधन के बिना चुनाव :कांग्रेस के लिए मुश्किल, बीजेपी फिर बना लेगी सरकार  


 

कांग्रेस के मुखपत्र नेशनल हेराल्ड के द्वारा कराये गए सर्वे में चौंका देने वाले आकडे सामने आए, इसमें बताया गया की मध्य प्रदेश में चौथी बार भी भाजपा की सरकार बनने जा रही है, मगर इस में यह भी स्पष्ट किया गया है की अगर कांग्रेस और बसपा का गठबंधन किया गया तो बीजेपी के लिए मुश्किल हो सकती है, आपको बता दें की  यह अनुमान स्पिक मीडिया नेटवर्क के प्री-पोल सर्वे में लगाया गया है| कांग्रेस पार्टी के मुखपत्र माने जाने वाले अख़बार नेशनल हेराल्ड में चुनाव पूर्व सर्वे प्रकशित किया गया है|

नेशनल हेरॉल्ड की वेबसाइट में प्रकाशित चुनाव पूर्व सर्वे में बताया गया है कि मध्य प्रदेश में अगर प्रदेश में कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के बीच गठबंधन नहीं हुआ तो भाजपा को इससे फायदा होगा और चुनाव में बीजेपी के खाते में 147 सीट आएंगी| वहीं कांग्रेस सिर्फ 73 सीटें ही जीत पायेगी और बसपा के पास दस सीटें जाएंगी| वहीं अगर कांग्रेस और बसपा गठबंधन होता है तो 230 सीटों में से 126 सीटें भाजपा को मिलेंगी और कांग्रेस-बीएसपी गठबंधन 103 सीट ही हासिल कर पाएगा| दोनों स्तिथि में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता दिख रहा है, क्यूंकि प्रदेश में बहुमत का आंकड़ा छूने के लिए 115 सीटें चाहिए| सर्वे ये भी कहता है कि मध्यप्रदेश में सीएम शिवराज सिंह और पीएम मोदी की लोकप्रियता बरकरार है|

सर्वे में यह भी बताया गया है कि फिलहाल मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रभाव अब भी जारी है। यदि भाजपा मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव में ही जोरदार प्रचार अभियान करती है तो उसे लोकसभा में ज्यादा मेहनत नहीं करना पड़ेगी। लेकिन, भाजपा यदि विपक्ष में आ गई तो लोकसभा में उसे भाजपा को वापस लाना मुश्किल हो जाएगा।

 

 


“ताजमहल” के रखरखाव को लेकर केंद्र और राज्य को फटकार  

टीचर का हुआ ट्रान्सफर तो लिपट कर रोये बच्चे


 VT PADTAL