VT Update
अपने बयान पर अड़े कांग्रेस विधायक सुंदरलाल तिवारी, बोले फिर से कहता हूँ वैश्याऐं शिवराज से हैं बेहतर जिले के जनेह थाने में पुलिस अभिरक्षा पर हुई युवक की मौत में अब तक बरकरार तनाव की स्थिति, एहतियात के तौर पर तैनात पुलिस बल, थाना प्रभारी हुए लाइन अटैच रीवा में कांग्रेस प्रभारी बावरिया से हुई झूमाझटकी में दो और कार्यकर्तओं पर कार्यवाई, अब तक सात कार्यकर्ता पार्टी से निष्काषित, तीन को जारी हुई नेटिस मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में एकबार फिर शर्मशार हुई इंसानियत, 6 साल की मासूम क साथ दुष्कर्म कर गला घोट जंगल में फेंका पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब, बेटी नमिता ने दी मुखाग्नि, जनता की नम आखों से विदा हुए अटल
कांग्रेस फिर उठाएगी फर्जी वोटर्स का मामला

फर्जी वोटर मामले में चुनाव आयोग से मिलेगा कांग्रेस नेताओं का दल मिलेगा


 

आगामी चुनावी को लेकर कांग्रेस ने अपनी सक्रियता बढा दी है।कांग्रेस वोट और वोटरों को देखते हुए कोई लापरवाही नही बरतना चाहती। बीते दिनों ही चुनाव आयोग द्वारा मध्यप्रदेश में से बीते 7 महीने में 24 लाख फर्जी वोटर हटाए गए हैं। वही प्रदेश की मतदाता सूची में 11 लाख 40 हजार नए मतदाता जुड़े हैं। इसके बाद कुल मतदाता 4 करोड़ 94 लाख 42 हजार रह गए हैं। इसी के चलते आज एक बार फिर मध्यप्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता मतदाता सूची में गड़बड़ियों की शिकायत चुनाव आयोग से करने जा रहे है।इस दौरान एक बार फिर निष्पक्ष जांच की मांग की जाएगी।हालांकि इसके पहले भी प्रतिमंडल दिल्ली जाकर शिकायत दर्ज करवा चुका है।

दरअसल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओ का एक प्रतिनिधिमंडल कल 8 अगस्त को दोपहर 3 बजे मतदाता सूची में फ़र्ज़ी व बोगस वोटर्स मामले को लेकर दिल्ली में मुख्य चुनाव आयुक्त से मिलेगा । इस प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेता कमलनाथ सहित दिग्विजय सिंह, ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया, दीपक बाबरिया, सुरेश पचौरी और विवेक तन्‍खा उपस्थित रहेंगे। मध्य प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय की कार्यप्रणाली की शिकायत की भी शिकायत की जाएगी। इसके पहले बीते दिनों कांग्रेस के पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने मतदाता सूची में गड़बड़ी, फर्जी और अपात्र मतदाताओं सहित अन्य शिकायतों को लेकर मुख्य निर्वाचन अधिकारी सलीना सिंह को ज्ञापन सौंपा था और निष्पक्ष जांच की मांग की थी।

गौरतलब है कि 2013 की वोटर लिस्ट में 4 करोड़ 66 लाख मतदाता थे और 31 जुलाई 2018 को मतदाताओं की संख्या 4 करोड़ 94 लाख 42 हजार हो गई है। इस हिसाब से सिर्फ 28 लाख वोटर ही बढ़े। इससे पहले 2008 से 2013 के बीच मतदाता सूची में रिकार्ड 1 करोड़ 5 लाख नए नाम जुड़े थे। आयोग द्वारा जारी इस सूची में 30 जून तक जोड़े गए मतदाता शामिल हैं। खास बात ये है कि पहली बार इनकी लिस्ट राजनैतिक दलों को सौंपी गई है, जिसमें बताया गया है कि कितने नाम हटाए और कितने जोड़े गए है।इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि अगर इसमें से किसी को कोई आपत्ति हो तो वे 22 दिन के अंदर शिकायक कर सकते है।आयोग द्वारा उसका समाधान कर 27 सितंबर को जारी होने वाले वोटर लिस्ट में इसका प्रकाशन कर दिया जाएगा।

 


विधानसभा सीटों के लिए टिकट वितरण के लिए कांग्रेस की महत्वपूर्ण बैठक

सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल में फंसे 40 लोगों को 3 ग्रामीणों ने बचाया


 VT PADTAL