VT Update
अपने बयान पर अड़े कांग्रेस विधायक सुंदरलाल तिवारी, बोले फिर से कहता हूँ वैश्याऐं शिवराज से हैं बेहतर जिले के जनेह थाने में पुलिस अभिरक्षा पर हुई युवक की मौत में अब तक बरकरार तनाव की स्थिति, एहतियात के तौर पर तैनात पुलिस बल, थाना प्रभारी हुए लाइन अटैच रीवा में कांग्रेस प्रभारी बावरिया से हुई झूमाझटकी में दो और कार्यकर्तओं पर कार्यवाई, अब तक सात कार्यकर्ता पार्टी से निष्काषित, तीन को जारी हुई नेटिस मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में एकबार फिर शर्मशार हुई इंसानियत, 6 साल की मासूम क साथ दुष्कर्म कर गला घोट जंगल में फेंका पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब, बेटी नमिता ने दी मुखाग्नि, जनता की नम आखों से विदा हुए अटल
सीएम को जान से मारने की धमकी, युवक गिरफ्तार

पाक जेल से रिहा युवक ने दी सीएम को जान से मारने की धमकी, हुआ गिरफ्तार


मध्यप्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान को जान से मारने की धमकी देने वाले दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पकड़े गए दोनों आरोपी सगे भाई है. आरोप है कि उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज को जान से मारने की धमकी दी थी. सूत्रों ने बताया कि 2 से 9 अगस्त के बीच ट्वीटर अकाउंट में पांच ट्वीट किए गए थे. जिसके सेल नंबर को ट्रैक करने पर साइबर सेल की नींद उड़ गई, गिरफ्तार किये गए युवकों में से एक पाकिस्तान की जेल में रहा है, कुछ महीनों पहले ही उसकी रिहाई और देश वापसी हुई थी. दोनों भाइयों को उनके घर सिवनी जिले के बरघाट गांव से गिरफ्तार किया गया है, फिलहाल पुलिस दोनों युवकों से पूछताछ कर रही है.

सूत्रों के मुताबिक जितेन्द्र अर्जुनवार ने बीते 2 से 7 अगस्त के बीच ट्वीटर के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज को जान से मारने की धमकी दी थी. उसने इन पांच दिनों में पांच बार पोस्ट कर लिखा था कि अगर सीएम शिवराज की जनआशीर्वाद यात्रा और वे खुद सिवनी आए तो वे उन्हें जान से मार देगा. ट्वीट के बाद सायबर सेल एक्टिव हो गया और युवक की तलाश शुरु कर दी. साइबर सेल ने ट्विटर एकाउंट के जरिए आरोपियों की पहचान की. सायबर सेल ने दोनों को हिरासत में लिया है.

गिरफ्तार किये गए युवक का नाम जीतेन्द्र अर्जुनवार और भारत अर्जुनवार है, यह दोनों सिवनी जिले के बरघाट गांव के रहने वाले है, आश्वासन के बाद भी मदद न मिल पाने से नाराज युवक ने ट्वीटर पर धमकी भरे पोस्ट किये जिसके बाद साइबर सेल एक्टिव हो गया और सुरक्षा के मद्देनजर दोनों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है.

बीते कुछ महिनों पहले ही मई 2018 में जीतेन्द्र पाकिस्तान की जेल से रिहा होकर भारत आया है. जितेंद्र अर्जुनवार अनजाने में LoC पार पाकिस्तान पहुंच गया था. पाकिस्तान सीमा सुरक्षा एजेंसियों ने 15 साल के जितेंद्र को 12 अगस्त 2013 में भारतीय सीमा से 35 किलोमीटर दूर सिंध छावनी के पास से गिरफ्तार किया था. बाद में उसे जुवेनाइल जेल में बंद कर दिया गया. उसे पाकिस्तान की अदालत ने एक साल की सजा सुनाई थी. जिसके बाद अप्रैल 2018 के पहले सप्ताह में सिवनी पुलिस अधीक्षक ने पाक जेल में बंद जितेंद्र की भारतीय नागरिकता के दस्तावेज प्रमाणित कर विदेश मंत्रालय को भेजे थे. भारतीय नागरिकता की पुष्टि होने के बाद पाकिस्तान सरकार ने उसे पाक जेल से रिहा करने का फैसला लिया और मई 2018 में वो अपने गांव पहुंचा था.


विधानसभा सीटों के लिए टिकट वितरण के लिए कांग्रेस की महत्वपूर्ण बैठक

सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल में फंसे 40 लोगों को 3 ग्रामीणों ने बचाया


 VT PADTAL