VT Update
वाराणसीः CM योगी ने चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा का अनावरण किया छत्तीसगढ़ः दंतेवाड़ा में IED विस्फोट में पांच जवान शहीद, 2 घायल रेलवे मैदान में होगा सद्भावना सम्मेलन, सतपाल जी महराज देगें उद्वबोधन रीवा व्यंकट भवन में विश्व संग्रहालय दिवस के उपलक्ष्य में लगाई गई प्रदर्शनी एमपी बोर्ड 10वीं और 12वीं रिजल्ट घोषित, मेरिट में छात्राओं का रहा दबदबा
नारायण राणे ने किया नई पार्टी का ऐलान, शिवसेना पर बोला हमला

नारायण राणे ने किया नई पार्टी का ऐलान, शिवसेना पर बोला हमला


मुबंई। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्य मंत्री नारायण राणे ने नई पार्टी बनाने का ऐलान किया है। राणे ने महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष से नई पार्टी की घोषणा की है। कांग्रेस को छोड़ने के बाद राणे ने अपनी नई पार्टी बनाने का ऐलान किया है, लेकिन नई पार्टी के ऐलान के मौके पर राणे ने जिस तरह कि बयानबाजी की है। उससे BJP की तरफ उनका झुकाव साफ नजर आ रहा था। वहीं राणे ने शिवसेना पर जमकर हमला बोला और BJP के खिलाफ कुछ भी कहने से बचते नजर आये। राणे ने कहा शिवसेना कब की खत्म हो चुकी है, अखबारों और टीवी चैनलो ने शिवसेना को अभी तक जिंदा रक्खा हुआ है।  वहीं बीजेपी को समर्थन देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि कुछ दिन के अंदर उनकी पार्टी अपनी अगली रणनीति बनाएगी जिसके बाद पार्टी BJP को समर्थन देने पर फैसला करेगी। 

राणे ने अपनी पार्टी का नाम 'महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष' रखा है। हालांकि, पार्टी का चुनाव चिन्ह अभी तय नहीं हो पाया है। नए राजनीतिक दल के गठन के बाद नारायण राणे ने कहा कि उनकी पार्टी समाज के कमजोर  तबकों और सूबे के किसानों के लिए काम करेगी। राणे ने पिछले महीने ही कांग्रेस पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता के साथ ही विधान परिषद सदस्यता से भी  इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद उनके बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं। इस्तीफे के बाद राणे अमित शाह से भी मिले थे। इस दौरान जब उनसे बीजेपी के साथ गठबंधन का सवाल किया गया और पूछा गया कि क्या बीजेपी में आपके दोस्त हैं, तो उन्होंने जवाब दिया, 'मेरे दोस्त हर जगह हैं। शिवसेना में उद्धव को छोड़कर और कांग्रेस में अशोक चव्हाण को छोड़कर सब मेरे दोस्त हैं'। कांग्रेस से पहले राणे शिवसेना में भी रहे चुके है। आप को बता दें कि  बाल ठाकरे ने ही नारायण राणे को सीएम बनाया था।  करीब नौ महीने तक सीएम पद पर काबिज रहने के बाद राणे और बाल ठाकरे के बेटे उद्धव के बीच खींचतान होने लगी थी।  जिसके बाद 2005 में राणे को बाल ठाकरे ने पार्टी से बाहर कर दिया था। 


अध्यक्ष और प्रभारी का बदलना तय

नर्मदा किनारे की सीटों में बड़ा डैमेज


 VT PADTAL