VT Update
बोर्ड परीक्षाओं की तिथि का काउंटडाउन शुरू 9 दिन बचे शेष, प्रशासन ने कसी कमर चप्पे-चप्पे पर रहेगा पुलिस का पहरा 10 हेक्टयर के रकबा वाले किसान के नाम पर 27 हेक्टर का पंजीयन निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने पकड़ी गड़बड़ी दो पटवारी सस्पेंड प्रदेश में पहली बार 3 तरह की अबकारी नीति, 25 प्रतिशत बढ़ेगी शराब दुकानों की कीमत, नहीं खोली जाएंगी उप दुकाने नगरी निकाय और किसानों को मिलने वाली बिजली महंगी करने की तैयारी में सरकार, घाटे को कम नहीं कर पा रही बिजली कंपनियां प्रधानमंत्री मोदी की मुहिम को झटका, आधे से भी कम सांसदों ने गांव लिए गोद, 778 कुल सांसद 300 गांव ही लिए गए गोंद
Saturday 1st of September 2018 | महाकुंभ सम्मेलन से होगा भाजपा का चुनावी शंखनाद

महाकुंभ सम्मेलन से होगा भाजपा का चुनावी शंखनाद, पीएम मोदी होगें शामिल


पंडित दीनदयाल उपाध्याय की 102वीं जयंती के मौके पर 25 सितम्बर को भोपाल में होने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं के प्रदेशस्तरीय सम्मेलन ‘महाकुंभ’ में पीएम मोदी भी शामिल होने वाले है. वे यही से मप्र का चुनावी शंखनाद करेंगें. इस कुंभ के जरिए मोदी 2018-2019 की सियासी जंग को फतह करने की रणनीति पर फोकस किए हुए है. बताया जा रहा है कि यह अब तक का सबसे बड़ा भाजपा का प्रदेश में होने वाला आयोजन होगा, इसमें 10 लाख कार्यकर्ताओं को जुटाने का लक्ष्य रखा गया है. इस महाकुंभ में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ-साथ भाजपा के कई दिग्गज नेता भी मौजूद रहेंगे. वे कार्यकर्ताओं को चुनाव जीतने का मूलमंत्र देंगें.  कार्यक्रम का आयोजन राजधानी के जंबूरी मैदान में किया जाएगा. इसके पहले मुख्यमंत्री शिवराज जन्माष्टमी पर इसका भूमि पूजन करने वहां जाएंगें.

कार्यकर्ता महाकुंभ में प्रदेश के सभी मतदान केंद्रों से पार्टी की टोली और इससे ऊपर के सभी पदाधिकारी बुलाए गए हैं आयोजन की तैयारियां अभी से शुरु हो गई है, सुरक्षा को ध्यान रखते हुए पुलिसकर्मियों को खास निर्देश दिए जा रहे वही पार्टी द्वारा ऑनलाइन और ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के ज़रिए कार्यकर्ताओं को न्यौता भेजा जा रहा है.

इसके अलावा इस महाकुम्भ के लिए अलग से नया गीत भी तैयार किया जा रहा है. आयोजन के लिए कई कमिटियों का गठन भी किया जा रहा है. इसी महाकुम्भ से बीजेपी चुनाव का शंखनाद करेगी. भाजपा चौथी बार भी शिवराज के नेतृत्व में मध्य प्रदेश में सरकार बनाने का दावा कर रही है. भाजपा का कहना है कि जनआशीर्वाद यात्रा से सरकार को जनता का भारी समर्थन मिल रहा है, इस बार बीजेपी 2013 के विधानसभा चुनाव से भी ज्यादा सीटें हासिल कर प्रदेश में अपनी सरकार बनायेगी.

वहीं भाजपा की अंदरूनी राजनीति में बदलाव के साथ जब पार्टी का फोकस पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई पर बना हुआ है ऐसे में मोदी-शाह और शिवराज की तिकड़ी केंद्र और राज्य सरकार की उपलब्धियों के नाम पर चुनाव का एजेंडा सेट कर सकती है. फिलहाल शिवराज सिंह चौहान की कोशिश है कि जन आशीर्वाद यात्रा के साथ वो मध्यप्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में अपनी प्रभावी धमाकेदार मौजूदगी दर्ज कराएं , जिसका फायदा उन्हें आने वाले विधानसभा चुनाव में मिल सके.


कैबिनेट के फैसलों पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने सरकार को घेरा

सिंधिया नें एक बार फिर सड़क में उतरनें की बात दोहराई


 VT PADTAL