VT Update
विन्ध्य में उद्योगों को लगेंगे पंख , मर्जी के मुताबिक उद्योगपतियों को मिलेगी जमीन , लैंड बैंक और लैंड पूल स्कीम से विन्ध्य में विकसित होगा उद्योग खोले गए लबालब बाणसागर के 10 गेट , रीवा, सतना, सीढ़ी, सिंगरौली, और शहडोल में अलर्ट घोषित आर्थिक मंदी के खिलाफ कांग्रेस मध्यप्रदेश समेत पुरे देश में छेड़ेगी आन्दोलन , दिल्ली में हुई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में सोनिया गाँधी ने दी जानकारी धुंधली होने लगी है विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद, लैंडर को नुक्सान पहुचने की आशंका बढ़ी यौन उत्पीड़न मामले में एसआईटी ने भाजपा नेता चिन्मयानंद से 7 घंटे की पूछताछ, चिन्मयानंद के आवास पर उनके बेडरूम की गई तलाशी
Sunday 16th of September 2018 | तिलहन फसलों पर मिलेगा समर्थन मूल्य

तिलहन फसलों पर केंद्र सरकार देगी किसानों को भावान्तर का फायदा


 

किसानों को साधने के लिए केंद्र और राज्य सरकार पूरी तरह से लगी हुई हैं इसी लिए अब मध्यप्रदेश सरकार की तर्ज पर केंद्र सरकार भी तिलहन फसलो पर समर्थन मूल्य देने की तैयारी में है, मोदी सरकार इसी सत्र से किसानो को अंतर राशी देने की मंजूरी दे दी है| हलाकि केंद्र सरकार ने मप्र की भावांतर योजना को ‘अन्नदाता आय संरक्षण अभियान’ (आशा) के नाम से लागू किया है। इस योजना का फायदा देशभर के किसानों को मिलेगा।

मप्र सरकार की भावांतर भुगतान योजना को केंद्र सरकार ने अप्रत्यक्ष रूप से देशभर में लागू कर दिया है। तिलहन फसलों पर इसी सत्र से किसानों को भावांतर का फायदा मिलेगा। यदि फसल बाजार में समर्थन मूल्य से कम बिकती है तो फिर औसत विक्रम मूल्य और समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में जाएगी। केंद्र सरकार ने इस योजना को अन्नदाता आय संरक्षण अभियान (आशा) नाम दिया है। केंद्र सरकार ने यह स्कीम फिलहाल सिर्फ तिलहन फसलों पर लागू की है। आशा योजना के लिए केंद्र सरकार ने 15053 करोड़ रुपए की राशि भी मंजूर कर दी है।

 

15 अक्टूबर से लागू की गई थी योजना

मप्र में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना पिछले साल 15 अक्टूबर से प्रदेश भर में लागू की गई थी। खरीफ फसलों की खरीदी-बिक्री पर किसानों को इस योजना का लाभ दिया गया था। हालांकि मप्र में यह योजना लागू होने के बाद फसलों के दाम बहुत नीचे आ गए थे। सोयाबीन, मूंगफल, ज्वार, बाजरा, मक्का एवं अन्य अधिसूचित फसलों को व्यापारियों ने 10 से 15 साल पुरानी कीमतों पर खरीदा। इस योजना के लागू होने के बाद मप्र में व्यापारियों कॉकस बना, जिसने जमकर चांदी काटी।

भावांतर योजना से किसानों को फायदा पहुंचा था। भारत सरकार ने भी इसे आशा नाम से देशभर में लागू किया है। तिलहन फसलों के समर्थन मूल्य से कम बिकने पर अंतर की राशि किसानों को दी जाएगी। मप्र में खरीफ सीजन में 12.80 किसानों को 2 हजार करोड़ रुपए भावांतर के तहत खातों में जमा कराए। तिलहन उत्पादक किसानों के लिए लाभकारी सिद्ध होगी।

राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव, कृषि

 


जम्मू-कश्मीर में हालात हुए सामान्य, सभी 10 जिलों में शुरू हुई नेट सेवाएं, प्र

कांग्रेस के कलह में हुई कैलाश की एंट्री, सिंघार को बताया साहसी


 VT PADTAL


 Rewa

रीवा के चोरहटा में बाइक सवार की हत्या, गड़ासे से काट कर उतारा मौत के घाट
Tuesday 17th of September 2019
खड्डा गांव के आदिवासी निवासियों ने कलेक्ट्रेट के सामने दिया धरना, कलेक्टर को संबोधित ज्ञापन संयुक्त कलेक्टर को सौंपा
Tuesday 17th of September 2019
बीएसएनएल के नॅान एग्जक्यूटिव कर्मचारी संगठनों को मान्यता देने डाले गए वोट, 18 सितम्बर को होगी गिनती
Tuesday 17th of September 2019
अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय में आयोजित हुई कुशाभाऊ ठाकरे के स्मृति में व्याख्यानमाला, प्रदेश राज्यपाल लालजी टंडन ने किया संबोधित
Tuesday 17th of September 2019
शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय रीठी में सुविधा की कमी
Sunday 15th of September 2019
कानून व्यवस्था सुधारने में जुटा प्रशासन
Sunday 15th of September 2019