VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Wednesday 4th of October 2017 | BJP की जनसुरक्षा यात्रा

अमित शाह के बाद अब मैदान पर योगी, केरल सरकार पर साधा निशाना


कन्नूर(केरल)। केरल में बीजेपी-आरएसएस के कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ बीजेपी की जनसुरक्षा यात्रा में बुधवार को यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी हिस्सा लिया। बता दें कि योगी इस जनसुरक्षा यात्र में करीब 10 किमी. तक पदयात्रा करेंगे पहले दिन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी 10 किमी. की पदयात्रा की थी। यात्रा शुरू करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बीजेपी में राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ हमारी यात्रा है। बीजेपी और संघ के कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ लोगों को जागरुक करने का काम हम काम करेंगे। कम्युनिस्ट केरल सरकार में अपने विचारधारा के विरोध करने वालों की हत्या कर रही है।
गौरतलब है कि केरल में वामपंथी हिंसा के विरोध में अमित शाह ने मंगलवार को जनरक्षा यात्रा का आगाज किया था। आज योगी भी इस यात्रा में शामिल हुए और जोर देते हुए कहा कि यह रैली केरल, पश्चिम बंगाल व त्रिपुरा की सरकारों के लिए एक आईना है जो लोकतंत्र की बात करते हैं मगर हिंसा में यकीन रखते हैं। योगी ने कहा कि लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह है ही नहीं। इससे पहले हिंसा के विरोध में जनरक्षा यात्रा का आगाज करते हुए मंगलवार को अमित शाह ने कहा था कि लाल आतंक के खात्मे तक भाजपा का संघर्ष जारी रहेगा। 15 दिन तक चलने वाली इस यात्रा का नेतृत्व करते हुए पहले दिन अमित शाह खुद नौ किलोमीटर की पदयात्रा की।
केरल में भाजपा की राजनीतिक महत्वाकांक्षा को देखते हुए इस यात्रा को अहम माना जा रहा है। यात्रा में शामिल एक वरिष्ठ नेता ने अगले लोकसभा चुनाव में केरल में 8-10 सीटें जीतने का दावा भी कर दिया। यात्रा की शुरुआत केरल के पेयनूर से अमित शाह ने कि थी जहां उन्होने केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन को सीधे तौर पर चुनौती भी दी थी। पेयनूर विजयन का गृह क्षेत्र है और केरल में माकपा का सबसे मजबूत गढ़ माना जाता है। शायद यही कारण है कि माकपा यहां भाजपा और संघ परिवार को रोकने का सबसे अधिक प्रयास कर रही है।


बावरिया की बैठक में फिर हुआ बवाल, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आपस में किया विवा

“कामदार या नामदार” ,आगामी चुनाव में टिकट को लेकर घमासान शुरू


 VT PADTAL