VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Wednesday 4th of October 2017 | BJP की जनसुरक्षा यात्रा

अमित शाह के बाद अब मैदान पर योगी, केरल सरकार पर साधा निशाना


कन्नूर(केरल)। केरल में बीजेपी-आरएसएस के कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ बीजेपी की जनसुरक्षा यात्रा में बुधवार को यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी हिस्सा लिया। बता दें कि योगी इस जनसुरक्षा यात्र में करीब 10 किमी. तक पदयात्रा करेंगे पहले दिन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी 10 किमी. की पदयात्रा की थी। यात्रा शुरू करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बीजेपी में राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ हमारी यात्रा है। बीजेपी और संघ के कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ लोगों को जागरुक करने का काम हम काम करेंगे। कम्युनिस्ट केरल सरकार में अपने विचारधारा के विरोध करने वालों की हत्या कर रही है।
गौरतलब है कि केरल में वामपंथी हिंसा के विरोध में अमित शाह ने मंगलवार को जनरक्षा यात्रा का आगाज किया था। आज योगी भी इस यात्रा में शामिल हुए और जोर देते हुए कहा कि यह रैली केरल, पश्चिम बंगाल व त्रिपुरा की सरकारों के लिए एक आईना है जो लोकतंत्र की बात करते हैं मगर हिंसा में यकीन रखते हैं। योगी ने कहा कि लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह है ही नहीं। इससे पहले हिंसा के विरोध में जनरक्षा यात्रा का आगाज करते हुए मंगलवार को अमित शाह ने कहा था कि लाल आतंक के खात्मे तक भाजपा का संघर्ष जारी रहेगा। 15 दिन तक चलने वाली इस यात्रा का नेतृत्व करते हुए पहले दिन अमित शाह खुद नौ किलोमीटर की पदयात्रा की।
केरल में भाजपा की राजनीतिक महत्वाकांक्षा को देखते हुए इस यात्रा को अहम माना जा रहा है। यात्रा में शामिल एक वरिष्ठ नेता ने अगले लोकसभा चुनाव में केरल में 8-10 सीटें जीतने का दावा भी कर दिया। यात्रा की शुरुआत केरल के पेयनूर से अमित शाह ने कि थी जहां उन्होने केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन को सीधे तौर पर चुनौती भी दी थी। पेयनूर विजयन का गृह क्षेत्र है और केरल में माकपा का सबसे मजबूत गढ़ माना जाता है। शायद यही कारण है कि माकपा यहां भाजपा और संघ परिवार को रोकने का सबसे अधिक प्रयास कर रही है।


शिव का कांग्रेस पर हमला- कर्जमाफी का वादा किया है निभाना तो पड़ेगा, अन्यथा हमे

कांग्रेस पार्टी की स्क्रीनिंग बैठक आज, प्रदेश की 16 सीटों पर प्रत्याशियों के


 VT PADTAL