VT Update
गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष जेपी सीमेंट ने नहीं चुकाया 5० करोड़ रूपए टैक्स, जुलाई के बाद नहीं जमा किया टैक्स लूट से बचने पहले व्यापारी और फिर बदमाश गाड़ी सहित गिरे नदी में,गुढ़ थाने के बिछिया नदी में हुआ हादसा विधानसभा में हारे उम्मीदवारों को कमलनाथ का सहारा, कमलनाथ ने कहा हताश न हो लोकसभा की तैयारी में लगें मप्र में कांग्रेस सरकार फिर खोलेगी व्यापम की फाइल,गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा घोटाले से जुड़े लोग बक्शे नही जायेंगे
Wednesday 24th of October 2018 | सरकार के खिलाफ उतरे कंप्यूटर बाबा

शिवराज के खिलाफ गांव -गांव जाकर करेगे प्रचार : कंप्यूटर बाबा


 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार से नाराज होकर राज्यमंत्री का दर्जा ठुकराने वाले कंप्यूटर बाबा अब ठीक चुनाव से पहले सरकार की मुश्किलें बढ़ने वाले हैं| कंप्यूटर बाबा प्रदेश के संतों का समागम कर संतों की मन की बात शुरू करने जा रहे हैं। इसकी शुरुआत 23 अक्टूबर को इंदौर से की जाएगी। ग्वालियर में 30 अक्टूबर, खंडवा में 4 नवंबर, रीवा में 11 नवंबर और जबलपुर में 23 नंवबर को संतों का महासम्मेलन किया जाएगा। नर्मदा यात्रा के भ्रष्टाचार को लेकर यात्रा निकलने से पहले सरकार ने उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा देकर उपकृत किया, लेकिन अब चुनाव से पहले उन्होंने एक बार फिर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और संत विरोधी बताते हुए सीधे हमले करने शुरू कर दिए हैं| चुनावी समर में संतों की नाराजगी बीजेपी को भारी पड़ सकती है, जिसके चलते अब बाबा को मानाने की भी कोशिश जोरो पर चल रही है| सरकार ने जूनापीठ के स्वामी अवधेशानंद गिरी को मध्यस्थता का जिम्मा सौंपा है।

कल इंदौर में होने वाले संत समागम में प्रदेश भर से एक हजार से ज्यादा संत एकत्रित हो रहे हैं। जिनमें से काफी संख्या में संतों ने इंदौर में डेरा डाल लिया है। समागम में संत नर्मदा, गाय, मठ-मंदिरों की स्थिति पर मंथन करेंगे और अपनी राय देंगे। संत समागम के संयोजक कंप्यूटर बाबा ने कहा कि यह समागम सरकार के खिलाफ नहीं है, बल्कि नर्मदा, गाय और मठ मंदिरों को बचाने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने एक बार फिर कहा कि सरकार धर्म विरोधी है। नर्मदा के लिए सरकार ने खतरा पैदा किया है। उन्होंने कहा कि समागम में शामिल होने के लिए नर्मदा खंड से संत काफी संख्या में पहुंच चुके हैं। इंदौर में होने वाले संतों के समागम के बाद संत प्रदेश भर में निकलेंगे। खासकर नर्मदा खंड में संतों का प्रवास होगा। वे लोगों को नर्मदा , गाय, और मठ-मंदिरों को बचाने का संदेश देंगे। साथ ही बताएंगे कि प्रदेश की मौजूदा सरकार नर्मदा, गाय और मंठ-मंदिरों का किस तरह से दोहन करने में जुटी है। चुनाव के दौरान संत सरकार की पोल खोलने का काम करेंगे। हालांकि कंप्यूटर बाबा ने कहा कि संतों के इस कार्यक्रम का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है।


अस्थायी हैलीपैड बनाने के लिए काटे हजार पेड़, शुरू हुआ विरोध तो दिया जांच का आद

मंत्री ने कहा- ऑपरेशन लोटस से खतरे में कनार्टक सरकार, भाजपा पर लगे गंभीर आरोप


 VT PADTAL