VT Update
आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला संतों की मन की बात कार्यक्रम के तहत रीवा के पद्मधर पार्क में सम्पन्न हुआ संत समागम, कंप्यूटर बाबा सहित अन्य संतों ने मुख्यमंत्री शिवराज को बताया भ्रष्टाचारी, कहा संतो को ‘शिव’ राज नही ‘नाथ’ चाहिए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की शुरुआत नक्सल प्रभावित बस्तर और राजनांदगांव से आज, छत्तीसगढ़ की 18 सीटों पर आज होगा मतदान संघ शाखाओं में कर्मचारियों के जाने पर रोक लगाने के कांग्रेसी अजेंडे पर मचा बवाल, भाजपा ने कहा हिम्मत है तो रोक कर दिखाओ, कांग्रेस का पलटवार हम शाखा बंद करके दिखायेंगे
Tuesday 30th of October 2018 | चपरासी के अंडर में लगी प्रोफेसर की ड्यूटी !

चपरासी को बनाया पीठासीन अधिकारी, मचा हडकंप


मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को मतदान होना हैं। चुनाव आयोग ने सभी अफसरों के ड्यूटी के आदेश भी जारी कर दिए हैं। इनमें कॉलेज और विश्वविधालयों के प्रोफेसरों को भी ड्यूटी पर नियुक्त किया गया है। मजे की बात यह है कि ये प्रोफेसर एक ऐसे पीठासीन अधिकारी के अधीनस्थ काम करेंगे जो वर्ग चार का सफाईकर्मी है। जब इस बात की जानकारी मिली तो प्रोफेसर बिगड़ गए और विरोध शुरू कर दिया। यह जानकारी कुछ शिक्षकों ने मीडियो को दी है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मध्यप्रदेश कॉलेज प्रोफेसर एसोसीएशन के अध्यक्ष कैलाश त्यागी ने बताया कि यह विचित्र परिस्थिती है किसी वर्ग चार के कर्मचारी को पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया गया है और वरिष्ठ प्रोफेसरों को उसके अधीनस्थ काम करने के लिए कहा गया है। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सरकारी कॉलेज के एक दिव्यांग प्रोफेसर को पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया गया है। दिव्यांग प्रोफेसर ने बताया कि वह समझ नहीं पा रहे इस काम को किस तरह अंजाम देंगे।

यह है पीठासीन अधिकारी को नियुक्त करने का नियम

चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा कि वर्ग तीन के किसी भी कर्मचारी को पीठासीन अधिकारी नियुक्त नहीं किया जा सकता। पीठासीन और पोलिंग अधिकारी वेतनमान, पद और रैंक के अनुसार वर्गीकृत होते हैं। नियम पुस्तिका के अनुसार गजेट अधिकारी को पीठासीन अधिकारी नियुक्त जाता है। अगर ऐसा करपाना संभव नहीं है तो फिर किसी समकक्ष रैंक वाले अधिकारी को पीठासीन अफसर नियुक्त किया जा सकता है। साथ ही पीठासीन अधिकारी वेतनमान और रैंक में पोलिंग अधिकारी से उच्च होना चाहिए।

एमपी कॉलेज प्रोफेसर एसोसीएशन ने इस मामले को लेकर कलेक्टर और राज्य चुनाव आयोग से रोस्टर में बदलाव का अनुरोध किया है। आयोग के लिखे पत्र में त्यागी ने कहा है कि 2013 में हाईकोर्ट ने कहा था कि सीनिर अफसर को किसी जूनीयर के अधिनस्थ नियुक्त नहीं किया जा सकता। यहां तो एक सफाईकर्मी को पीठासीन अफसर नियुक्त कर दिया गया है। जो सरासर गलत है।


इंदौर में पी. चिदम्बरम ने बीजेपी सरकार पर साधा निशाना, व्यापम, किसान और कुपोष

स्वागत के दौरान टूटा मंच, कांग्रेस प्रत्याशी समेत कई कार्यकर्ता मंच से गिरे


 VT PADTAL