VT Update
गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष जेपी सीमेंट ने नहीं चुकाया 5० करोड़ रूपए टैक्स, जुलाई के बाद नहीं जमा किया टैक्स लूट से बचने पहले व्यापारी और फिर बदमाश गाड़ी सहित गिरे नदी में,गुढ़ थाने के बिछिया नदी में हुआ हादसा विधानसभा में हारे उम्मीदवारों को कमलनाथ का सहारा, कमलनाथ ने कहा हताश न हो लोकसभा की तैयारी में लगें मप्र में कांग्रेस सरकार फिर खोलेगी व्यापम की फाइल,गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा घोटाले से जुड़े लोग बक्शे नही जायेंगे
Tuesday 30th of October 2018 | अंतिम दौर की बैठक जारी

बीजेपी :दिल्ली में फाइनल हो रहे प्रत्यासी


भोपाल. लगभग सभी सीटें फाइनल हो चुकी हैं अंतिम दौर की मीटिंग दिल्ली में चल रही है. पिछले 15 साल से सत्ता में काबिज बीजेपी इस बार हर कदम फूंक-फूंक कर रखना चाहती है. प्रत्याशी चयन को लेकर चल रही कवायद पार्टी ने पूरी कर ली है. रविवार देर रात तक भोपाल में चली बैठक के बाद सभी 230 सीटों पर विचार कर लिया गया है और अब इन नामों पर केंद्रीय चुनाव समिति फैसले के लिए दिल्ली में लगातार 12 घंटे से बैठक कर रही है. बैठक में मप्र. के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर राष्ट्रीय संगठन मंत्री रामलाल सिंह राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के घर में मौजूद हैं.

पिछले दिनों चुनाव समिति के सदस्य कृष्ण मुरारी मोघे ने मीडिया से चर्चा में बताया कि प्रदेश स्तर पर अब चुनाव समिति की बैठक नहीं होगी, सभी 230 सीटों के नाम पर चर्चा हो चुकी है और पैनल बनाकर नाम केंद्रीय चुनाव समिति के पास भेज दिए गए हैं. उन्होंने कहा जरुरत पड़ने पर सीएम क्षेत्रवार नेताओ से चर्चा करेंगे, मध्य प्रदेश में बीजेपी ने पहली बैठक में ही नाम तय कर लिए हैं.

गौरतलब है कि भाजपा में प्रत्याशियों के नामों को फाइनल करने के लिए प्रदेश चुनाव समिति ने रविवार को देर रात तक मंथन किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और कैलाश जोशी समेत अन्य वरिष्ठ नेताओं ने करीब सात घंटे तक एक-एक सीट पर चर्चा की। सूत्रों के मुताबिक बैठक में सभी 230 सीटों पर विचार किया गया. इनमे से करीब पचास सीटों पर ही सिंगल नाम तय हुए हैं. वहीं शेष सीटों पर दो या तीन नामों के पैनल बने हैं. देर रात तक चली बैठक के दौरान यह बात सामने आई है कि भाजपा के मौजूदा 40 से 50 विधायकों के टिकट काटे जाएंगे जिनमें तीन चार मंत्री भी शामिल है, जिन विधायकों का टिकट कटना है उसका फैसला भी केंद्रीय चुनाव समिति ही लेगी . हालांकि टिकट कटने वाले नेताओं को इसकी सूचना पहले से दी जा सकती है. पार्टी के सर्वे और संघ के फीडबैक के बाद लगभग 80 विधायकों के टिकट काटने को लेकर चर्चा गर्म थी. संभावना है कुछ नामों पर पार्टी विचार कर दुबारा मौके दे सकती है, वहीं कुछ विधायकों का पत्ता साफ होना तय है. इसके अलावा सीट बदलने की स्तिथि पार्टी साफ कर चुकी है. इसके अलावा पार्टी कुछ सांसदों और पूर्व सांसदों को भी मैदान में उतार सकती है.

अंतिम फैसला दिल्ली में – प्रत्याशी चयन को लेकर प्रदेश स्तर की बैठक के बाद अब अंतिम फैसले के लिए शीर्ष नेतृत्व दिल्ली में बैठक कर रहा है.बैठक में हर क्षेत्र से 2 नाम के पैनल हैं और अमित शाह द्वार कराये गये सर्वे को भी प्रमुखता से देखकर नाम फाइनल करेगी.


किसानों के कर्जमाफी योजना में लापरवाही बरतने पर 2 कर्मचारी हुए निलंबित, एक क

बीजेपी ने विस चुनाव में हारे दिग्गजों को सौंपी लोकसभा चुनाव के तैयारी की जिम


 VT PADTAL