VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Saturday 3rd of November 2018 | कांग्रेस के पूर्व सांसद ने थामा बीजेपी का दामन  

चुनाव से पहले बीजेपी के हुए कांग्रेस के पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू


 

कांग्रेस की लिस्ट जारी होने से पहले ही जोड़तोड़ की राजनीति शुरू हो गई है। उज्जैन से कांग्रेस के पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू बीजेपी में शामिल हो गए। कांग्रेस में वह काफी लंबे समय से पार्टी में साइडलाइन चल रहे थे। वह 1990 से कांग्रेस के मजबूत सिपाहियों में शामिल रहे हैं। बीजेपी के दिल्ली कार्यलय में कांग्रेस के कई और बड़े नाम बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस में अब नीतियों पर बात नहीं होती। उन्होंने दिग्विजय सिंह और सिंधिया के बीच हुए विवाद की खबर पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस अब राजा और महाराज की पार्टी है। इसलिए उन्होंने अब पार्टी को छोड़ने का मन बना लिया है। बीजेपी उन्हें मालवा के किसी भी सीट से टिकट दे सकती है। राजनीति के जानकारों का कहना है कि कांग्रेस के लिए यह बहुत बड़ा झटका है। कांग्रेस गुड्डू को आलोट से टिकट देने पर राजी थी, लेकिन वह इस सीट के बजाए सावेर सीट से टिकट की मांग कर रहे थे। इसके अलावा वह अपने बेटे के लिए भी टिकट की मांग कर रहे थे।

गुड्डू दो बार विधायक रह चुके हैं, एमपी कांग्रेस के महासचिव रहे चुके हैं, पार्षद से लेकर पार्टी में बड़े ओहदे तक पहुंचे प्रेमचंद गुड्डू उज्जैन क्षेत्र के कद्दावर नेता माने जाते हैं। गुड्डू ने अपने बेटे अजित बौरासी के लिए टिकट माँगा था। मालवा में भाजपा मजबूत है, और कांग्रेस सेंध लगाने की कोशिश कर रही है, लेकिन गुड्डू के चले जाने से एक झटका जरूर कांग्रेस को लगा है। गुड्डू का ये मानना है कि पार्टी में लगातार उनकी उपेक्षा हो रही थी। इसे लेकर उन्होंने पिछले दिनों प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से मुलाकात भी की। गुड्डू उज्जैन से सांसद भी रहे और उज्जैन में नियुक्तियों के दौरान उन्हें नजरअंदाज किया गया। उज्जैन में लगभग सभी पद कमलनाथ के समर्थकों को दे दिए गए, जिससे गुड्डू काफी नाराज हुए। बताया गया कि गुड्डू ने कमलनाथ को दो टूक कहा था कि जब जिला और ब्लॉक कांग्रेस में उनके हिसाब से नियुक्ति नहीं हो रही तो चुनाव में क्या होगा। युवा कांग्रेस के मध्य प्रदेश के कार्यवाहक अध्यक्ष अजीत बोरासी पर ने भी भाजपा के स्थानीय कार्यालय में जाकर पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। उन्हें पार्टी के नगर अध्यक्ष गोपीकृष्ण नेमा पूर्व विधायक जीतू जिराती ने सदस्यता दिलाई।

मालवा के बड़े नेताओं में प्रेमचंद गुड्डू का नाम आता है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के करीबी हैं। लेकिन दिग्विजय भी काफी दिनों से कांग्रेस में साइडलाइन चल रहे हैं। ऐसे में गुड्डू को टिकट मिलने की उम्मीद बेहद कम नजर आ रही थी। वह अपने और परिवार के सदस्यों को लिए टिकट की मांग कर रहे थे। लेकिन जब उन्हें लगा की कांग्रेस से टिकट नहीं मिलेगा उन्होंने बीजेपी में जाना बेहतर समझा।

बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि बीजेपी में कांग्रसे के कई नेता शामिल होंगे। हम चुनाव से पहले कांग्रेस को कई बड़ा झटके देंगे। वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी का कहना है कि यह लोकतांत्रिक प्रक्रिया है, कोई भी किसी भी पार्टी में जा सकता है। यह समय बताएगा कौन किसको चौंकाता है। दूसरे दलों के नेताओं को बीजेपी में शामिल करने पर उन्होंने कहा कि बीजेपी डीलर पार्टी है।

 


ओड़िशा के कंधमाल में हुआ हमला, नक्सलियों ने संयुक्ता दिग्गल की सिर में गोली म

सुमित्रा महाजन के बाद अब कैलाश विजयवर्गी ने किया चुनाव लड़ने से किया इनकार


 VT PADTAL