VT Update
आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला संतों की मन की बात कार्यक्रम के तहत रीवा के पद्मधर पार्क में सम्पन्न हुआ संत समागम, कंप्यूटर बाबा सहित अन्य संतों ने मुख्यमंत्री शिवराज को बताया भ्रष्टाचारी, कहा संतो को ‘शिव’ राज नही ‘नाथ’ चाहिए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की शुरुआत नक्सल प्रभावित बस्तर और राजनांदगांव से आज, छत्तीसगढ़ की 18 सीटों पर आज होगा मतदान संघ शाखाओं में कर्मचारियों के जाने पर रोक लगाने के कांग्रेसी अजेंडे पर मचा बवाल, भाजपा ने कहा हिम्मत है तो रोक कर दिखाओ, कांग्रेस का पलटवार हम शाखा बंद करके दिखायेंगे
Saturday 3rd of November 2018 | टिकट बंटवारे को लेकर शुरू हुई कलह !

पूर्व मंत्री के भाई को मिली टिकट, तो बेटे-बहू हुए बागी


 

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा द्वारा पहली लिस्ट जारी होने के बाद बवाल मच गया है। ऐसे में उन लोगों को गहरा झटका लगा है, जिनको नेतृत्व से टिकट की आस लगाए बैठे थे। प्रदेश के पूर्व मंत्री स्वर्गीय जगन्नाथ सिंह के भाई अमर सिंह को भाजपा से टिकट मिलने के बाद बेटे और बहू बागी हो गए है। बहू राधा सिंह ने बीजेपी के अनुसूचित जनजाति महिला मोर्चा के प्रदेश मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी ने चितरंगी से अमर सिंह को मैदान में उतारा गया है। जबकी पार्टी ने सिंगरौली से निवर्तमान विधायक रामलल्लू वैश्य और देवसर से पूर्व विधायक स्व. रामचरित्र के छोटे बेटे सुभाष चंद्र वर्मा को टिकट दिया है।टिकट के इस बंटवारे ने परिवार में कलह पैदा कर दिया है।

दरअसल, जिले की तीन विधानसभा सीटों पर घोषणा के बाद पूर्व मंत्री स्व. जगन्नाथ सिंह के परिवार में कलेश हो गया है। पार्टी ने चितरंगी से अमर सिंह ,सिंगरौली से निवर्तमान विधायक रामलल्लू वैश्य और देवसर से पूर्व विधायक स्व. रामचरित्र के छोटे बेटे सुभाष चंद्र वर्मा को टिकट दिया है।जबकी पूर्व मंत्री स्व. जगन्नाथ सिंह की बहू राधा सिंह को पार्टी से टिकट मिलने की पूरी उम्मीद थी।

चूंकि वे बीजेपी के अनुसूचित जनजाति महिला मोर्चा के प्रदेश मंत्री है, लेकिन टिकट ना मिलने से आहत होकर उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि पार्टी शीर्ष की ओर से टिकट नहीं दिए जाने से बाबू जी (ससुर स्व. जगन्नाथ सिंह) का असम्मान हुआ है। राधा सिंह के पति व स्व. जगन्नाथ सिंह के पुत्र जिला पंचायत उपाध्यक्ष रवींद्र सिंह भी पार्टी के निर्णय से खफा हैं। टिकट की घोषणा के बाद जहां अमर सिंह समर्थकों के साथ जनसंपर्क में निकल गए। वहीं दूसरी ओर उनके बड़े भाई स्व. जगन्नाथ सिंह के घर में सन्नाटा छाया रहा।

 


शशि थरूर के बयान पर बीजेपी ने जताई आपत्ति, संबित पात्रा ने कहा राहुल गाँधी तु

इंदौर में लगाया गया विवादित पोस्टर कमलनाथ चला रहे बस, राहुल- सिंधिया कंडेक्ट


 VT PADTAL