VT Update
इंदौर में पकड़ाई जिस्म के जादूगरनियों के तार रीवा से भी जुड़े, नगर निगम में तैनात रहे ईंजी हरभजन सिंह को भी किया था ब्लैकमेल, जांच में अहम खुलासा, 20 लोगों से ऐंठ चुकी है 15 करोड़, बरामद की गई 90 वीडियो। अमेरिका के ह्यूस्टन में पीएम मोदी के कार्यक्रम से 24 घंटे पहले बरसा 10 इंच पानी, लगाई गई इमरजेंसी, स्कूल कॅालेजों में की गई छुट्टी, जारी किया गया अलर्ट। वायुसेना को मिला पहला लड़ाकू विमान रफाल, 8 अक्टूबर को सेना में किया जाएगा शामिल, फ्रांस जाएंगे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, 60 हजार करोड़ में दोनों देशों के बीच हुआ सौदा। बीजेपी के धरना प्रदर्शन पर कांग्रेस का वार, कहा- शिवराज को किसानों से हमदर्दी है तो दिल्ली में केंद्र सरकार के खिलाफ करें प्रदर्शन, दिलाए राहत पैकेज। प्रदेश की कमलनाथ सरकार के खिलाफ विपक्ष का हल्ला बोल, बीजेपी ने प्रदेश के सभी जिलों व तहसीलों में किया प्रदर्शन, की किसानों को राहत दिए जाने की मांग, सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप।
Tuesday 25th of December 2018 | इंडोनेशिया में सुनामी ने बरपाया कहर

मौत की लहरे हुई शांत, भोजन-पानी व दवाईयों का उबरा संकट


इंडोनेशिया में सुनामी से हुए बर्बादी के बाद अब खाने और दवाइयों की कमी का संकट पैदा हो गया है। स्थिति यह है कि फौरी तौर पर बनाए गए राहत शिविरों में भी अधिक भीड़ बढ़ जाने के कारण हालात बिगड़ गए है। इंडोनेशिया में मौत लेकर आई सुनामी ने सैकड़ों जिंदगियां खाक कर दीं। जबकि हजारों लोग जिंदगी और मौतत से दो-दो हाथ कर रहे है। इन सब के इतर तूफान का खतरा तो टल गया। लेकिन तबाही के बाद खाने.पीने के सामानों के आभाव के कारण समस्या पैदा हो गई है। देश में आए इस प्राकृतिक आपदा से बच्चे बीमार हो गए। जिनको बेहतर इलाज दे पाना स्थानीय एजेंसियों के लिए चुनौति बन गया है। आपदा प्रभावित इलाकों में मंगलवार को मदद तो पहुंच गई है, लेकिन बचाव कर्मियों ने कहा कि राहत शिविरों में लगातार बढ़ रही लोगों की संख्या के कारण पीने के लिए पानी और राहत की दवाएं का संकट उत्पन्न हो गया है। आपको बता दें कि शनिवार को ज्वालामुखी फटने से आई सुनामी में मरने वाले नागरिकों की संख्या 400 के करीब पहुंच गई है। साथ ही सुनामी के कारण ध्वस्त हुए हजारों घरों के कारण विस्थापितों की संख्या बढ़ती जा रही है। जिससे सबको राहत देने के लिए सरकार के सामने चुनौती खड़ी हो गई है।

बुखार व सिर दर्द से पीड़ित है बच्चे : एनजीओ अक्सी केपट टंग्गप के लिए काम कर रहे चिकित्सक रिजाल अलीमिन ने बताया कि बुखार, सिर दर्द से अनेक बच्चे पीड़ित हैं और उनके पास पीने के लिए पर्याप्त पानी का संकट है। साथ ही शरणार्थियों के लिए भोजन व दवाएं उपलब्ध कराने के लिए मशक्कत करना पड़ रहा है।

373 लोगों की हुई मौत : जारी आंकड़ों के मुताबिक आपदा में मरने वालों की 373 पहुंच गई है। जबकि 1459 लोग घायल हुए है। सुनामी जैसे भयावह आपदा में 128 लोगों के लापता होने के जानकारी सामने आई है। वहीं, विशेषज्ञों ने चेताया है कि तांडव की लहरे शांत हुईं है। यह लहरें प्रभावित क्षेत्रों को फिर से नुकसान पहुंचा सकती हैं। जबकि पांच हजार से ज्यादा शरणार्थी घर पहुंचने व संकट से बचने के लिए जद्दोजहद कर रहे है।


डोनल्ड ट्रंप ने पेश किया नई प्रवासन नीति का ख़ाका, युवा, पढ़े-लिखे और अंग्रेज

श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों के पीछे नेशनल तौहीद जमात संगठन का नाम


 VT PADTAL