VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Friday 28th of December 2018 | भारत व ऑस्ट्रे के बीच तीसरा टेस्ट, भारत को बढ़त

बुमराह के फिरकी में फंसी टीम ऑस्ट्रेलिया, 151 रनों पर हुई ढेर


भारत व ऑस्ट्रेलियाई के बीच खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की घातक गेंदबाजी से भारतीय टीम का पलड़ा भारी है। बुमराह 33 रन देकर छह विकेट की जोरदार गेंदबाजी के सामने ऑस्ट्रेलिया टीम 151 रन पर ढेर हो गई। जिससे मुकाबले में भारत ने 292 रन की बढ़त हासिल कर ली है। कप्तान विराट कोहली ने वर्तमान नियम को मानते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम को फॉलोऑन नहीं दिया। भारत ने अपनी पहली पारी सात विकेट पर 443 रन बनाकर समाप्त घोषित कर दिया था। जिसके बाद मैच के तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक अपनी दूसरी पारी में पांच विकेट खोकर 54 रन बनाए हैं। जिससे भारतीय टीम की कुल बढ़त 346 रन हो गई है। भारत का शीर्ष क्रम लड़खड़ाने के बावजूद भी सीरीज में 2.1 से बढ़त बनाने की मजबूत स्थिति में है। भारतीय गेंदबाजों ने मैच की शुरूआत से ही विपक्षी टीम पर दबाव बनाए रखा। इस दौरान बुमराह ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। वहीं, रवींद्र जडेजा ने 45 रन देकर दो जबकि ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी ने एक.एक विकेट अपने फिरकी के फेर में उलझा कर निकाल लिया। इसके बाद मेजबान टीम के कमिंस ने दस रन देकर चार विकेट हासिल कर तीसरे दिन  का खेल तेज गेंदबाजों के नाम कर दिया। जिससे मैच में दिन भर में कुल 15 विकेट गिरे, जिनमें से 13 विकेट तेज गेंदबाजों ने झटके। अकेले तीसरे सत्र में आठ विकेट गिरे। 

आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को संभलने का नहीं मिला मौका : भारत की नई सलामी जोड़ी मयंक अग्रवाल (नाबाद 28) और हनुमा विहारी (13) ने पहले 12 ओवर तक विकेट को बचाए रखा। लेकिन कमिंस ने अपने गेंदबाजी का जौहर दिखाते हुए अगले तीन ओवरों में चार विकेट निकालकर भारतीय टीम का स्कोर चार विकेट पर 32 रन कर दिया। इनमें पहली पारी के शतकवीर चेतेश्वर पुजारा और कोहली भी शामिल थे। दोनों खिलाड़ी दूसरी पारी में खाता भी नहीं खोल पाए। भारत की ओर से आउट होने वाले पहले बल्लेबाज विहारी थे। विहारी कमिंस की शॉर्ट पिच गेंद को ढंग से पढ़ नहीं पाए और गली में खड़े फिल्डर के हाथों लपके गए। कमिंस ने अगले ओवर में भारत के दोनों बेहतर बल्लेबाजों पुजारा और कोहली को पवेलियन की राह दिखाई। जिन्होंने पहली पारी में तीसरे विकेट के लिये 170 रन की साझेदारी की थी। पुजारा कमिंस की फुललेंथ गेंद को फ्लिक किया और लेग गली में खड़े मार्कस हैरिस के हाथों में खेल गए। कोहली ने भी वही गलती दोहराई और फ्लिक करने की जल्दबाजी में लेग गली में ही क्षेत्ररक्षक को आसान से कैच थमा दिया। जबकि अनुभवी बल्लेबाज अंजिक्य रहाणे (एक) ने भी लेग साइड की तरफ जाती गेंद की गुगली को समझ नहीं पाए और विकेट के पीछे कीपर को कैच दे बैठे। जबकि अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे अग्रवाल ने एक छोर संभाले रखा। लेकिन दूसरे छोर से बल्लेबाज आते जाते रहे। जिसमें रोहित शर्मा भी पांच रन स्कोर बोर्ड में जोड़कर जोश हेजलवुड (13 रन देकर एक विकेट) की शॉर्ट पिच गेंद को स्लैश करने के प्रयास में स्लिप लपक लिए गए। स्टंप उखड़ने के समय अग्रवाल के साथ ऋषभ पंत छह रन पर खेल रहे थे । इससे पहले बुमराह और ईशांत ने शानदार लाइन लेंथ से ऑस्ट्रेलिया को सुबह से ही संकट में रखा जिसने आज अपनी पारी बिना किसी नुकसान के आठ रन से आगे बढ़ाई थी। ऑस्ट्रेलियाई सलामी जोड़ी ने गेंदबाजों पर हावी होने की रणनीति अपनाई, लेकिन उनका यह दांव उलटा पड़ गया। भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा ने दिन के पांचवें ओवर में एरॉन फिंच (आठ) को मिडविकेट पर अग्रवाल के हाथों कैच कराया। इसके चार ओवर बाद मार्कस हैरिस (22) का अपने पुल पर नियंत्रण नहीं रहा और उन्होंने फाइन लेग क्षेत्ररक्षक के हाथों में सीधा कैच थमा दिया। बुमराह का यह दिन का पहला विकेट था। जिसके बाद भारतीय टीम ने मेजबान टीम के ऊपर दबाव कायम कर लिया। करीबी क्षेत्ररक्षण सजाकर जडेजा को आक्रमण पर लगा दिया गया। बाएं हाथ के इस स्पिनर ने बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए ऑफ स्टंप के बाहर बनी खुरदुरी जगह का फायदा उठाया और उस्मान ख्वाजा (21) को शॉर्ट लेग पर कैच करा कर महत्वपूर्ण विकेट अपने नाम किया। शॉन मार्श (19) और हेड ने चौथे विकेट के लिए 36 रन जोड़े। किसी तरह से आस्ट्रेलिया टीम को संकट से उबारने का प्रयास कर रहे थे। लेकिन लंच से ठीक पहले बुमराह की यॉर्कर का शॉन मार्श के पास कोई जवाब नहीं था जिस पर वह एलबीडब्ल्यू हुए। जिससे उन्हें पवैलियन लौटना पड़ा।

बुमराह ने झटके छह विकेट : लंच के बाद शुरू हुए खेल में भारतीय गेंदबाजों को विकेट हासिल करने के लिए चार ओवर का इंतजार करना पड़ा। जिसके बाद बुमराह ने ट्रेविस हेड (20) की गिल्लियां बिखेर कर पवैलियन का रास्ता दिखा दिया। जिससे ऑस्ट्रेलिया का स्कोर पांच विकेट पर 92 रन हो गया और मिशेल मार्श (नौ) के आउट होने से टीम की स्थिति और नाजुक हो गई। बल्लेबाज ने गलत दिशा में फ्लिक करने का प्रयास किया। लेकिन जडेजा की फ्लाइट लेती गेंद बल्ले का किनारा छूते हुए स्लिप में खड़े फिल्डर के हाथों में समा गई। इसके बाद पेन और कमिंस (17) ने सातवें विकेट के लिए 36 रन जोड़े। कमिंस जब दो रन पर थे तब विहारी की गेंद पर ऋषभ पंत ने उनका आसान सा कैच छोड़ दिया। जिसके बाद भारतीय कप्तान ने गेंदबाजी की रणनीति में बदलाव करते हुए मोहम्मद शमी को लगाया। शमी ने कमिंस को बोल्ड करके भारत के हाथ में विकेटों की और सफलता दिलाई। चाय काल के बाद बुमराह ने अपने पहले ही ओवर में कप्तान टिम पेन (22) का 85 गेंदों तक चला संघर्ष समाप्त कर  अगले ही ओवर में नाथन लियोन और हेजलवुड को पवेलियन लौटाकर ऑस्ट्रेलियाई पारी को समाप्त किया। ये दोनों खिलाड़ी टीम के स्कोर में एक रन भी नहीं जोड़ पाए। जबकि मिशेल स्टार्क सात रन बनाकर नाबाद रहे। मालूम हो कि भारत ने पहले दो दिन तक बल्लेबाजी की तथा पुजारा (106) के शतक तथा कोहली (82) अग्रवाल (76) और रोहित (नाबाद 63) के अर्धशतकों से सात विकेट पर 443 रन बनाकर पारी के समाप्ति की घोषणा की। चार टेस्ट मैचों की सीरीज अभी 1.1 से बराबरी पर है। भारत ने एडिलेड में पहला टेस्ट 31 रनों से जीता जबकि ऑस्ट्रेलिया ने पर्थ में दूसरा टेस्ट मैच 146 रन से जीत कर सीरीज को बराबरी पर ला दिया है।


वर्ल्ड कप टीम में शामिल होने के लिए खिलाड़ियों की कोशिश जारी, जाधव बताए जा रहे

दुसरे वनडे मैच में भारत ने 90 रनों से दर्ज की बड़ी जीत


 VT PADTAL