VT Update
एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली कि अंतिम रिपोर्ट से खुलासा, केवल 7 प्रतिशत स्कूलों में है इंटरनेट की सुविधा, अंधेरे में जिले कि 532 स्कूलें टीवी एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला बने बिग बॉस सीजन 13 के विजेता, सर्वाधिक वोट पाकर हासिल किया विजेता का टैग धान खरीदी की मांग को लेकर अनशन पर बैठे अनशनकारी का स्वास्थ्य बिगड़ा, सांसद विधायक पहुंचे, रामबाग चौराहे में होगा चक्का जाम फर्जी कंपनी की शिकायत की पड़ताल के बाद EOW में दर्ज की प्राथमिकी फर्जी कंपनी को दिया दवा सप्लाई का ठेका और बिना सप्लाई लिया भुगतान मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दिया संकेत प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की जल्द होगी घोषणा मुख्यमंत्री ने सोनिया गांधी से की मुलाकात
Thursday 3rd of January 2019 | घाटी में जारी है आतंकियों पर सेना की कार्रवाई

एक साल में मारे गए 262 आतंकी, अभी भी सक्रिय है दो सौ से ज्यादा आतंकी


काश्मीर की घाटी में भारतीय सुरक्षा एजेंसियां ने वर्ष 2018 में ऑपरेशन ऑल आउट के तहत आतंकियों को ठिकाने लगाया। जिसमें सुरक्षाबलों ने 31 दिसंबर 2018 तक 262 आतंकवादियों को मार गिराया है। सुरक्षा बलों ने एक वर्ष में लश्कर जैश और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों के टॉप कमांडरों को भी ढेर किया है। इन सब के अलावा सुरक्षा एजेंसियों के रिपोर्ट के मुताबिक घाटी में पाक समर्थित आतंकवाद को अभी भी पनाह मिल रही है। सूत्रों की मानें तो आज भी 300 से ज्यादा आतंकी कश्मीर घाटी में सक्रिय है। जिनके खिलाफ सुरक्षा एजेंसियां ऑपरेशन चला रही हैं। सूत्रों के मुताबिक घाटी में 196 के आसपास लोकल टेरेरिस्ट लश्कर जैश, हिज्बुल मुजाहिदीन और अंसार गजवत उल हिंद के सक्रिय हैं। वहीं कश्मीर घाटी में 105 के आसपास पाकिस्तानी और तालिबानी खूंखार आतंकी मौजूद है। सूत्रों के मुताबिक हिजबुल मुजाहिदीन के 114, जैश के 51 और लश्कर के 135 आतंकी सक्रिय है।

2018 में शहीद हुए 86 जवान : गृह मंत्रालय द्वारा राज्य सभा में लिखित दिए गए जवाब के मुताबिक पिछले साल 2 दिसंबर तक 587 आतंकी हमले हो चुके है जबकि 2017 में 2 दिसंबर तक ये संख्या 329 थी। 2017 में यह आंकड़ा 342 और 2016 में 322 आतंकी हमले हुए थे। संसद में दी गई लिखित रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीर में हुए 2018 में आतंकी हमलों में 2 दिसंबर तक 86 जवान शहीद हुए है। जबकि इस अवधि में 2017 में 74 जवान शहीद हुए थे। रिपोर्ट से साफ है कि घाटी में सीमा के पार से आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए लगातार आतंकियों को भेजने की कवायद जारी है। इसके साथ ही सूत्रों के अनुसार आतंकियों के आका कश्मीर में अशांती फैलाने के लिए लगातार स्थानीय युवाओं को बरगलाने की दिशा में काम कर रहे है। इसके इतर आतंकियों को आधुनिक सुविधाओं से लैस करने की भी कवायद जारी है।

ओवर ग्राउंड वर्करों की कर रहे भर्ती : सुरक्षा सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कश्मीर घाटी में आतंकियों की मदद करने के लिए ओवरग्राउंड वर्कर की भर्ती पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई कर रही है। बताया जा रहा कि आईएसआई ओवर ग्राउंड वर्कर की भर्ती करने के लिए बाकायदा सोशल मीडिया के जरिए टैलेंट हंट प्रोग्राम चला रही है। हालांकि सुरक्षा एजेंसियों की मानें तो घाटी में मौजूद ओवर ग्राउंड वर्कर के हौसले पस्त हैं। क्योंकि उनके खिलाफ भी बड़ा अभियान स्थानीय पुलिस और घाटी में मौजूद दूसरी सुरक्षा एजेंसियां चला रही हैं। सूत्रों के मुताबिक दिसंबर महीने में जैश.ए.मोहम्मद के 12 ओवर ग्राउंड वर्कर को सुरक्षा एजेंसियों ने दबोचा है। जिनके पास काफी हथियार व अन्य आपत्तिजनक समान बरामद किया गया है।


 बिना सब्सिडी वाला गैस सिलेंडर 144.5 रुपये महंगा,उत्पादन घटा  

महाराष्ट्र के कर्मचारियों को सप्ताह में दो दिन मिलेगी छुट्टी


 VT PADTAL