VT Update
गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष जेपी सीमेंट ने नहीं चुकाया 5० करोड़ रूपए टैक्स, जुलाई के बाद नहीं जमा किया टैक्स लूट से बचने पहले व्यापारी और फिर बदमाश गाड़ी सहित गिरे नदी में,गुढ़ थाने के बिछिया नदी में हुआ हादसा विधानसभा में हारे उम्मीदवारों को कमलनाथ का सहारा, कमलनाथ ने कहा हताश न हो लोकसभा की तैयारी में लगें मप्र में कांग्रेस सरकार फिर खोलेगी व्यापम की फाइल,गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा घोटाले से जुड़े लोग बक्शे नही जायेंगे
Friday 11th of January 2019 | सरकार बनाने के लिए कार्यकर्ताओं ने ली थी अजीब प्रतीज्ञा

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद, मनोज ने सीएम से कटवाई संकल्प चोटी


प्रदेश में सत्ता का वनवास झेल रही कांग्रेस को सत्ता पर काबिज होने में पंद्रह वर्ष लग गए। प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनाने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अजीब संकल्प लिया था। जिसका असर भी दिखा और कार्यकर्ताओं का तप भी पूरा हुआ। कार्यकर्ताओं के 15 वर्षों के संघर्ष के बाद प्रदेश में कांग्रेस कर सरकार बन गई और कार्यकर्ताओं द्वारा लिए गए प्रतिज्ञा को पूरा करने का दौर शुरू हो गया है। गुरूवार को जबलपुर के जिला मंत्री मनोज नामदेव विधानसभा पहुंच कर अपना संकल्प मुख्यमंत्री को बताया तो कमलनाथ ने उस संकल्प को पूरा किया। मनोज कुमार ने बताया कि उन्होंने संकल्प लिया था कि जब तक प्रदेश में कांग्रेस की सरकार नहीं बनती है तब तक वह चोटी नही कटवाएंगें। जिसके बाद कमलनाथ ने कैंची से चोटी काट कर मनोज का संकल्प पूरा किया। आपको बता दें कि जबलपुर कांग्रेस के जिला मंत्री मनोज नामदेव ने 2003 के चुनावों के बाद कांग्रेस की सत्ता में वापसी के लिए अपनी चोटी न कटाने की कसम खाई थी। बीजेपी के 15 सालों के राज में उन्होंने अपनी इस प्रतिज्ञा को बनाए रखा। कांग्रेस की सत्ता में वापसी के इंतजार में 15 सालों में उनकी चोटी की लम्बाई डेढ़ मीटर तक बढ़ गई। लेकिन अब सरकार कांग्रेस की है, तो गुरुवार को कांग्रेस नेता मनोज नामदेव मंत्री लखन घनघोरिया के साथ विधानसभा पहुंचे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के सत्ता में आने से वह बेहद खुश हैं और अब वह सीएम कमलनाथ को बधाई देकर अपनी चोटी कटवाएंगे। वो सीएम कमलनाथ से मिले। कार्यकर्ताओं ने सीएम को उनके संकल्प के बारे में बताया और फिर उसके बाद सीएम ने कैंची से मनोज की चोटी काटकर उनका संकल्प पूरा कराया। गौरतलब है कि सत्ताधारी दल में कार्यकर्ताओं के संकल्प का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले दुर्गालाल किरार नामक कांग्रेसी ने सरकार बनने तक जूता न पहनने का संकल्प लिया था । जिसे कारण कार्यकर्ता ने 15 सालों तक जूतें नहीं पहने। कार्यकर्ता का संकल्प मुख्यमंत्री को पता चलने के बाद उन्होंने कार्यकर्ता को अपने आवास पर बुलाकर जूते पहनावें। जिसके बाद कार्यकर्ता का संकल्प पूरा हुआ।


पूर्व सीएम शिव ने कहा- मध्यप्रदेश देश से बाहर नहीं, देश के दिल में रहकर करूंगा

बुआ- भतीज के गठबंधन पर राहुल का पलटवार कहा- अंडरएसटिमेट किया गया


 VT PADTAL