VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Friday 11th of January 2019 | सोशल मीडिया पर छात्र ने ज्योतिरादित्य को लिखा पत्र

छात्र ने पूछा- आपकी पार्टी गुनाहगारों को बचाव करती है क्या


गुना के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से एक युवक ने सोशल मीडिया के माध्यम से मदद की गुहार लगाई है।युवक ने अपने माता-पिता पर हमला करने वाले छात्र नेता के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। पीड़ित ने बताया कि छात्र नेता अब भी फरार चल रहा है। युवक ने कहा है कि आरोपी छात्र नेता आपकी ही पार्टी का है और प्रदेश में आपकी ही सरकार है इसलिए मैं आशा करता हूं कि छात्र के खिलाफ कार्रवाई होगी।फेसबुक पर यह पोस्ट ग्वालियर के सौरभ प्रभात नाम के छात्र ने लिखी है। साथ ही मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और एसपी नवीन भसीन को भी टैग किया है। आपको बता दें कि युवक ने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा है कि श्रीमान ज्योतिरादित्य सिंधिया जी, आपके साथ इस पोस्टर पर छपे आपकी पार्टी के छात्र नेता रोमिल मिश्रा ने पांच माह पहले मेरे मां व पिताजी पर जानलेवा हमला किया था। मेरी मां की तस्वीर आप देख सकते है। मेरी मां 15  दिनों तक आईसीयू में रही जबकि अपने राजनीतिक पहुंच के चलते रोमिल मिश्रा को दो दिनों के अंदर जमानत मिल गई। पिछले महीने हाई कोर्ट ने रोमिल मिश्रा की बेल रद्द कर दी है और इस समय वो फरार है। पुलिस का कहना है कि वो शहर में नहीं है। लेकिन शहर भर में उसके इस तरह के पोस्टर लगे हुए है आपके साथ। एक गंभीर अपराधी आपका और आपकी पार्टी का सहारा लेकर न्याय पालिका से बचना चाहता है। क्या कांग्रेस न्याय से भागे अपराधियों का गढ़ है क्या यह आपके और आपकी पार्टी के द्वारा न्यायपालिका के आदेश कि अवमानना नहीं है। अगर आप इसके विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं करते तो मानूंगा की आप खुद एक फरार अपराधी को न्यायपालिका से बचा रहे है। और सिर्फ पोस्टर हटा देने से आपका काम पूर्ण नहीं हो जाता। यह आपके शहर में हुए एक बुजुर्ग दंपती पर जानलेवा हमले की बात है जिसमें आपकी पार्टी का छात्र नेता आरोपी है। मुझे इस बार गलत साबित होने पर खुशी होगी।

क्या है मामला : जानकारी के मुताबिक पांच महिने पहले अलकापुरी निवासी प्रकाश खरे ने एडवोकेट अवधेश सिंह भदौरिया के माध्यम से हाईकोर्ट  याचिका प्रस्तुत कर कहा था कि रिटायरमेंट के बाद मैं और मेरी पत्नी अकेले अपने मकान में रह रहे हैं। मकान का एक कमरा छात्रा को किराए पर दे रखा था, जिससे आरोपी रोमिल मिश्रा मिलने आता था। उसकी गलत हरकतें देखकर हमने लड़की से कमरा खाली करा लिया, जिससे नाराज होकर आरोपी 17 जून की शाम करीब 6 बजे डंडा लेकर घर आ गया और मकान मालिक से कमरा खाली करने के कारण पूछने लगा। जिसके बाद उनके साथ मारपीट शुरू कर दी। जिससे पीड़ित गंभीर रूप से घायल हो गए। पीड़ितों ने मामले की शिकायत मुकामी पुलिस से की। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद मामला कोर्ट पहुंच गया था। जिस पर आरोपी रोमिल मिश्रा को सेशन कोर्ट से मिली जमानत को रद्द करने के आदेश देते हुए मप्र उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ के जस्टिस एसए धर्माधिकारी ने कहा था अपराध की गंभीरता पर विचार किए बिना अपराधी को जमानत पर छोड़ना गलत है। उन्होंने जिला एवं सत्र न्यायालय से मिली जमानत एवं मुचलके को रद्द करते हुए आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी के आदेश दिए थे। इसके बाद से वो फरार चल रहा है। जिससे पर पीड़ित के पुत्र ने सांसद ज्योतिरादित्य सोशल मीडिया के द्वारा न्याय की गुहार लगाई है।


खजाना भरने के लिए बाजार पहुंची कमलनाथ सरकार, मांगा 1 हजार करोड़ का कर्ज

इंदौर एयरपोर्ट से दुबई के लिए आज़ उड़ान भरेगी एयर इंडिया, 29 मई को इंटरनेशनल एय


 VT PADTAL