VT Update
देश के हर घर को बिजली देने की कोशिश हो रही है: राष्ट्रपति कोविंद सरकार ने गरीबों के लिए बैंकिंग सुविधा को आसान किया: राष्ट्रपति कोविंद रामगढ़ उपचुनाव: कांग्रेस की साफिया खान जीतीं J-K:अनंतनाग में पुलिस स्टेशन पर ग्रेनेड से हमला, 3 नागरिक और 1 जवान घायल गोपाल भार्गव बने नेता मप्र.विधानसभा नेता प्रतिपक्ष
Sunday 10th of February 2019 | प्रदेश में लौट कर आया ठण्ड का मौसम !

प्रदेश में बदला मौसम का मिजाज, राजधानी सहित 11 शहरों में कोल्ड डे


 

प्रदेश में मौसम का मिजाज अचानक बदल गया है| ठण्ड लौट आई है तथा कड़ाके की सर्दी ने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। उत्तर भारत की तरफ से आ रही बर्फीली हवाओं के कारण प्रदेश के लगभग सभी इलाको में ठिठुरन बढ़ गयी है| तथा कई स्थानों में शीत लहर का भी प्रकोप है, जिसके चलते दिन और रात के तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है| शुक्रवार की रात से ही अधिक ठण्ड का असर शुरू होगया था जो शनिवार को दिन में भी रहा| जिसके चलते धुप निकलने के बाद ठंडी हवाएं कंपकपाती रही|

राजधानी में शीतलहर के चलते ठण्ड बढ़ गई है| शुक्रवार को राजधानी में रात का तापमान सामान्य से 3.4 डिग्री कम होकर 8.6 डिग्री रिकॉर्ड हुआ। यह पांच साल में फरवरी में सबसे कम है। इससे पहले फरवरी 2014 में न्यूनतम तापमान 7 डिग्री रिकॉर्ड हुआ था। इसके पहले 10 फरवरी 2012 को भोपाल का न्यूनतम तापमान 5.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। शनिवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 20.4 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ, जो सामान्य से 6 डिग्री सेल्सियस कम रहा|

मौसम विभाग के अनुसार भोपाल, इंदौर, रीवा, जबलपुर, सतना, सागर, राजगढ़, शाजापुर, श्यौपुरकला, नौगांव, सिवनी, मलाजखंड में शनिवार को शीतल दिन रहा। मौसम विज्ञानियों ने ठंड के तेवर अभी और तीखे होने की संभावना जताई है। शनिवार सुबह से ही शीतलहर चलने से होशंगाबाद, इंदौर और उज्जैन में तापमान में गिरावट आई है। इन स्थानों पर 10 डिग्री से कम और अधिकतम तापमान सामान्य से 4.5 डिग्री कम होने की संभावना है। बादल छंटने से तापमान में गिरावट आई है। अभी पूरे प्रदेश में कोई सिस्टम नहीं है। हवाओं का रुख उत्तर पश्चिमी हो गया है। इस कारण तापमान में गिरावट आ रही है। आगामी एक-दो दिन में तापमान में एक-दो डिग्री की गिरावट और आ सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ के असर से पिछले दिनों उत्तर भारत में जबरदस्त बर्फबारी हुई है। इसके अतिरिक्त पिछले दिनों कई स्थानों पर बरसात के साथ ही ओलावृष्टि भी हुई है। साथ ही पश्चिमी विक्षोभ का असर समाप्त होते ही हवा का रुख उत्तरी हो गया है। जिसके चलते बर्फीली हवाओं ने प्रदेश में ठिठुरन बढ़ा दी है।


गोपाल भार्गव ने मुख्यमंत्री कमलनाथ पर लगाया बड़ा आरोप  

प्रदेश की राजनीति में घट रहा शिवराज-तोमर का कद ??


 VT PADTAL