VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Monday 11th of March 2019 | लोकसभा की तारिखों ने बढ़ाई सरगर्मियां

चुनाव की तारिखों के ऐलान के बाद उम्मीदवरों के चयन में जुटे दल, कांग्रेस दो दिन में घोषित कर सकती है उम्मीदवार


चुनाव आयोग द्वारा लोकसभा चुनाव की तारीखों घोषणा किए जाने के बाद सियासी खेमें सरगर्मियां तेज हो गई है। सभी राजनैतिक दलों ने अपनी तैयारियां तेज कर दी है। भाजपा जहां अभी टिकट को लेकर जल्दबाजी नहीं दिखा रही है। वहीं, कांग्रेस जल्द ही पहली सूची जारी करने की तैयारी में है, मुख्यमंत्री व पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने संकेत दिए हैं कि दो दिन के भीतर उम्मीदवारों की सूची घोषित कर दी जाएगी। इस बीच कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की सोमवार को नईदिल्ली में बैठक होने जा रही है। जिसमें कमलनाथ शामिल होंगे। इस बैठक में गुना.शिवपुरी संसदीय सीट से सांसद व पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया और रतलाम से सांसद कांतिलाल भूरिया के नाम को हरी झंडी मिल सकती है। इसके अलावा अन्य 12 सीटों के प्रत्याशियों के बारे में भी विचार किया जाएगा।

        मुख्यमंत्री कमलनाथ मप्र की 25 सीटों पर जीत का दावा कर रहे हैं। इसके लिए हर सीट पर प्रत्याशी चयन पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। भाजपा के मजबूत गढ़ में सेंध लगाने के लिए कांग्रेस कुछ बड़े नेताओं को मैदान में उतारना चाह रही है। लेकिन इन नेताओं को किस सीट से चुनाव लड़ाया जाए इसको लेकर संदेह बरकार है।  पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, रामकृष्ण कुसमरिया और अजय सिंह जैसे नेताओं के नाम दो से लेकर तीन सीटों पर चल रहे हैं। इसके चलते आधा दर्जन से ज्यादा सीटों पर नाम तय नहीं हो पा रहे हैं। सोमवार को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में इनकी सीटों के फाइनल होने की संभावना जताई जा रही है।

           सीईसी की बैठक में छिंदवाड़ा से मुख्यमंत्री कमलनाथ के पुत्र नकुल नाथ, राजगढ़ से दिग्विजय सिंह, ग्वालियर से प्रियदर्शनी राजे सिंधिया, मंदसौर से मीनाक्षी नटराजन, धार से गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी, खंडवा से अरुण यादव, सतना से अजय सिंह, मुरैना से रामनिवास रावत, सागर से प्रभु सिंह ठाकुर के नामों पर चर्चा हो सकती है। बची हुईं 13 सीटों पर बाद में चर्चा होगी। इन सीटों पर पांच.पांच नामों के पैनल तैयार किए गए हैं। वहीं शहडोल सीट को लेकर असमंजस की स्तिथि है, यहां से पार्टी भाजपा के पूर्व मंत्री ज्ञान सिंह के खिलाफ उपचुनाव लड़ने वाली हिमाद्रि सिंह को टिकट देने के पक्ष में नहीं है। इसकी वजह हिमाद्रि ने हाल ही में विधानसभा चुनाव के दौरान पति भाजपा प्रत्याशी नरेंद्र मरावी के पक्ष में चुनाव प्रचार करते पाई गई थीं। शहडोल लोकसभा की रायशुमारी के दौरान भी वहां के कांग्रेस नेताओं ने इस बारे में मुख्यमंत्री कमलनाथ से शिकायत की थी। इसके बाद नाथ ने यह संकेत दिए थे कि हिमाद्रि यदि उनके पति को कांग्रेस में शामिल करवाती हैं तो उन्हें टिकट देने पर विचार किया जाएगा। इसके अलावा हाल ही में भोजपुर विधानसभा चुनाव में सुरेंद्र पटवा से चुनाव हारे पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी होशंगाबाद लोकसभा सीट से टिकट के लिए जोर लगा रहे हैं।


शिव का कांग्रेस पर हमला- कर्जमाफी का वादा किया है निभाना तो पड़ेगा, अन्यथा हमे

कांग्रेस पार्टी की स्क्रीनिंग बैठक आज, प्रदेश की 16 सीटों पर प्रत्याशियों के


 VT PADTAL