VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Monday 11th of March 2019 | कर्जमाफी पर घिरी कमल सरकार

नाथ सरकार ने मैसेज भेज कहा- चुनाव बाद होगा कर्जमाफी, शिवराज ने कहा खोखले वादों की खुल गई कलई


मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के लिए संजीवनी का काम करने वाली कर्जमाफी लोकसभा चुनाव से पहले अब पार्टी और सरकार के लिए गले की फांस बन गई है। दस दिन में वचन पूरा करने वाली सरकार ढाई महीने में भी सभी किसानों का कर्जा माफ़ नहीं कर पाई है। अब यह विपक्ष के लिए चुनावी मुद्दा बन गया है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि सरकार ने आचार संहिता लगने से पहले ही किसानों से माफ़ी मांग ली कि आपका कर्ज माफ़ नहीं होगा, सरकार के लोग भगवान से यही प्रार्थना कर रहे थे कि कब आचार संहिता लगे और उनका पीछा छूटे, रविवार को आचार संहिता से पहले ही किसानों को मैसेज भेज दिए कि अब लोकसभा चुनाव के बाद कर्जमाफी होगी।

         आपको बता दें कि रविवार को आयोग द्वारा लोकसभा चुनाव की तारिखों के घोषणा के बाद से आचार संहिता लागू हो गई है। जिसके कारण प्रदेश में कर्जमाफी की प्रक्रिया अटक गयी है। ख़ास बात यह कि किसानों के पास आचार संहिता लगने से पहले ही यह सन्देश पहुँच गया कि आचार संहिता के कारण कर्जमाफी नहीं होगी, लोकसभा चुनाव के बाद कर्जमाफी स्वीकृत होगी। इसको लेकर सवाल खड़े हो गए हैं, भाजपा ने कहा वोट के लिए हुए षड्यंत्र का खुलासा हो गया है कांग्रेस ने ऋण माफी का झूठ बोला था।  दिल्ली में चुनाव आयोग ने 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी। जिसमें  मुख्य चुनाव आयुक्त ने चुनाव की घोषणा की। इससे पहले ही मध्य प्रदेश में किसानों के पास मैसेज पहुंचना शुरू हो गए कि आचार संहिता के कारण कर्जमाफी की प्रक्रिया चुनाव के बाद होगी। सोशल मीडिया पर इन मैसेज के स्क्रीनशॉट वायरल हो रहे हैं।

बोले शिवराज- खुल गई कलई, उड़ गए रंग

कर्जमाफी को लेकर प्रदेश सरकार पर हमलावर पूर्व सीएम शिवराज ने मीडिया से चर्चा में कहा सरकार ने जो वादे किये वो खोखले थे, ढाई महीने में कलई खुल गई, सरकार का रंग उतर गया। कर्जमाफी का सच सामने आ गया है। इतने उतावले थे कि आचार संहिता लगने से पहले किसानों से माफ़ी मांग ली कि अब कर्जमाफी नहीं होगी। ताकि उनसे पिंड छूटे। शिवराज ने कहा जो वादा किया उससे सरकार मुकर गई, किसान त्राहि त्राहि कर रहे हैं। धान उठाई नहीं गई, सोयाबीन के 500 रूपये क्विंटल दिए नहीं। प्याज किसान आंसू बहा रहा है, गेंहू बमुश्किल दो हजार रुपए दे रही सरकार, ओले पाले का पैसा मिल नहीं रहा। सरकार में भयानक प्रशासनिक अराजकता है। भ्रष्टाचार का बोलबाला है, कलेक्टर और एसपी परेशान हैं, सरकार नहीं व्यापार चल रहा है। इसलिए सरकार का रंग उतर गया है सच्चाई जनता के सामने है।


शिव का कांग्रेस पर हमला- कर्जमाफी का वादा किया है निभाना तो पड़ेगा, अन्यथा हमे

कांग्रेस पार्टी की स्क्रीनिंग बैठक आज, प्रदेश की 16 सीटों पर प्रत्याशियों के


 VT PADTAL