VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Tuesday 12th of March 2019 | सतना रेप कांड पर सुको का बड़ा फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने दरिंदे की फांसी की सजा उम्र कैद में की तब्दील, पीड़िता के परिजनों में निराशा


मध्यप्रदेश के सतना जिले में 5 साल की मासूम के साथ हुए दुष्कर्म के बाद हत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने आरोपी सचिन सिंगरहा की फांसी की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया है। इससे पहले मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने 2016 सचिन को फांसी की सज़ा सुनाई थी। जिसके बाद सचिन ने न्याय के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। 23 फरवरी 2015 को मैजिक वाहन चालक सचिन ने एलकेजी में पढ़ने वाली मासूम के साथ दरिंदगी की थी। जिसके बाद उसकी हत्या भी कर दी थी। कोर्ट के फैसले के बाद परिजनों मे निराशा है।

          आपको बता दें कि 2015 में मध्यप्रदेश के सतना जिले में 23 फरवरी, 2015 को बच्‍ची का भाई उसे स्कूल पहुंचाने जा रहा था, तभी रास्ते में गांव के ही मैजिक चालक सचिन सिंगरहा ने उसे रोककर बहन को गाड़ी में बैठाया था और कहा था वह उसे स्कूल छोड़कर आएगा। लेकिन जब देर रात बच्ची नहीं लौटी तो परिजनों ने पुलिस से शिकायत दर्ज कराया। पुलिस के अनुसार, पूछताछ के दौरान आरोपी मैजिक चालक ने पहले तो पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया, लेकिन बाद में वह टूट गया और पूरी घटना का खुलासा कर दिया। आरोपी ने पुलिस को बताया था कि उसके वाहन में बच्ची अकेली थी, जिसे देखकर उसकी हवस जाग गई और उसने सुनसान इलाके में ले जाकर पहले बच्ची के साथ रेप किया। फिर गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। इसके साथ ही शव को नहर के किनारे एक कुएं में फेंक दिया, जहां से बाद में पुलिस ने शव को बरामद किया था। मामला कोर्ट पहुंचा और  6 अगस्त 2015 को मैहर कोर्ट ने सचिन को फांसी की सजा सुना दी। इसके बाद आरोपी पक्ष ने हाईकोर्ट में अपील की लेकिन फैसला बच्ची के हक में सुनाया गया। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने 3 मई 2016 को सचिन की फांसी की सजा बरकरार रखी थी। लेकिन इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दिए जाने से पहले ही सचिन को फांसी देने के लिए 30 मार्च की तारीख का डेथ वारंट जारी कर दिया गया।

             सचिन ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में कहा कि हाईकोर्ट द्वारा फांसी की सजा की पुष्टि के फैसले को चुनौती देने के लिए उसे कानूनन मिलने वाला 90 दिन का समय नहीं दिया गया था और फांसी देने को 30 मार्च के लिए उसका डेथ वारंट जारी कर दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने उम्र क़ैद की सज़ा सुनाते हुए कहा कि सचिन 25 साल तक जेल में ही रहेगा। 25 साल से पहले उसे रिहा नहीं किया जाएगा।


अपहरण की घटना से फिर दहला सतना, मासूम का अपहरण के बाद हत्या कर बोरे में भर कर न

​​​​​​​लगातार बढ़ रही अपहरण की घटनाओं के बाद एसपी को हटाने की मांग हुई तेज


 VT PADTAL