VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Friday 15th of March 2019 | बेलगाम अपराध पर लगाम लगाएंगे नए एसपी

बढ़ते अपराधों के कारण सतना एसपी को हटाया, एसपी इकबाल को सौंपी गई जिले की कमान


प्रदेश के सतना जिले में लगातार बिगड़ती कानून व्यवस्था और बढ़ते अपहरण की घटनाओं के बाद एसपी संतोष सिंह गौर को हटा दिया गया है। विभाग ने उनका तबादला करते हुए उन्हें भोपाल पुलिस मुख्यालय से संबद्ध कर दिया है। गौर की जगह पर रियाज इकबाल को सतना की कानून व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। अभी दो दिन पूर्व कांग्रेस ने इस पर सख्ती दिखाते हुए चुनाव आयोग से एसपी को हटाने की मांग की थी। बता दें कि हाल ही में सतना जिले में एक और मासूम का अपहरण कर उसकी हत्या करने की घटना घटित होने के बाद से एसपी को हटाने की मांग तेज हो गई थी। इसके पहले चित्रकूट से जुड़वा बच्चों का अपहरण कर हत्या कर दिया गया था। क्षेत्र के भाजपा नेताओं ने भी चुनाव आयोग को यह शिकायत की थी कि संतोष सिंह के सतना में रहते निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराना मुश्किल है। जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है।    

              आपको बता दें कि बीते दिनों सतना में दो जुड़वा बच्चों का अपहरण कर हत्या करने का मामला सामने आया था। अभी ये मामला शांत हुआ था कि बुधवार को फिर एक बच्चे की अपहरण के बाद  हत्या कर दी गई। वही पांच दिनों में जिले के अलग.अलग थानों में पांच मासूमों के अपहरण के मामले दर्ज किए गए थे। एक के बाद हो रही घटनाओं के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ था। जिसके बाद से कानून व्यवस्था पर सवाल उठने लगे है। इसमें पुलिस प्रशासन की बड़ी लापरवाही भी सामने आ रही थी।

रियाज इकबाल को मिली जिले की कमान :

एसपी रियाज इकबाल को सतना जिले की कानून व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। आपको बता दें कि एसपी इकबाल पन्ना जिले में करीब दो साल तक पदस्थ रहे। उन्होंने तत्कालीन कलेक्टर जेपी आइरीन सिंथिया के साथ रेत के अवैध कारोबार के खिलाफ प्रदेश की सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए एक साथ तीन सौ से अधिक ट्रक और डंपर पकड़े थे। इसके बाद बीते साल की गई कार्रवाई में 21 भारी मशीनें पकड़ी थी। उन्होंने अपने कार्यकाल में रेत के अवैध कारोबार के खिलाफ करीब एक दर्जन बड़ी कार्रवाई की। पन्ना में यौन शोषण की शिकायत जज के खिलाफ दर्ज की थी। इसके बाद सिंगरौली जिले का कार्यकाल भी चर्चा का विषय रहा। बीते दिनों वह तब चर्चा में आए थे जब मुरैना जिले के सुमावली से विधायक एदल सिंह कंसाना के बेटे राहुल सिंह कंसाना के खिलाफ टोल नाका के कर्मचारियों से की गई मारपीट के मामले में केस दर्ज करवाया था। इसके बाद एसपी रियाज इकबाल को मुरैना से तबादला कर भोपाल भेजा गया था। लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों सहित निर्वाचन आयोग को रियाज इकबाल ही पसंद थे। इसलिए उन्हें सतना एसपी की जिम्मेदारी सौंपी गई है।


सिंधिया के स्वागत में स्टेशन पहुंचे कार्यकर्ता आपस में भीड़े, चोरी का आरोप लग

कांग्रेस की 8 वीं लिस्ट जारी,पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भोपाल से प्रत्


 VT PADTAL