VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Thursday 19th of October 2017 | जानिए: कब से कब तक रहेगा दीपावली पूजन का शुभ मुहूर्त

जानिए: कब से कब तक रहेगा दीपावली पूजन का शुभ मुहूर्त


दीपावली के दिन चौमुख दीपक रातभर प्रदीप्त रहना शुभ एवं मंगलप्रदायक होता है। दीपावली के दिन प्रदोषकाल शाम पांच बजकर 34 मिनट से रात आठ बजकर 11 बजे तक रहेगा। शाम को सात बजकर 14 मिनट से सात बजकर 52 मिनट तक प्रदोष काल, स्थिर वृष लग्न एवं शुभ का चौघड़िया रहेगा। लक्ष्मी पूजन का यह सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त है। परन्तु शास्त्रों में कार्तिक कृष्ण अमावस्या की संपूर्ण रात्रि को काल रात्रि माना गया है। इसलिए संपूर्ण रात्रि में पूजा की जा सकती है। दीपावली के दिन घरों, दुकानों एवं व्यापारिक प्रतिष्ठानों में महालक्ष्मी पूजन के साथ देहलीविनायक, मां काली, सरस्वती एवं कुबेर की भी पूजा अवश्य करनी चाहिए। इससे धन आगमन बना रहता है। घर में स्थिर लक्ष्मी का वास होता है। 
दीपावली के दिन भगवती लक्ष्मी एवं भगवान गणेश की नूतन प्रतिमाओं, चित्रों का प्रतिष्ठापूर्वक विशेष पूजन किया जाता है। पूजन के लिए किसी चौकी अथवा कपड़े के पवित्र आसन पर भगवान गणेश के दाहिने भाग में माता लक्ष्मी को स्थापित करना चाहिए। पूजा स्थान को पवित्र कर स्वयं भी पवित्र होकर श्रद्धा-भक्तिपूर्वक शाम के समय शुभ मुहूर्त में इनका पूजन करें। सर्वप्रथम पूर्व अथवा उत्तराभिमुख हो आचमन, पवित्री धारण, मार्जन-प्राणायाम कर अपने तथा पूजा सामग्री के ऊपर गंगाजल युक्त जल छिड़कें। देवी के चित्र को पुष्प माला पहनाकर, धूप, दीप, अगरबत्ती और शुद्ध घी के पांच और अन्य सरसों के तेल के दीपक जलाएं। 


 


कांग्रेस की कार्य समिति गठित, इस बार दिग्विजय को नही मिली जगह

 पीएम मोदी दो दिवसीय पूर्वांचल दौरे पर, करोड़ों की योजनाओं का करेंगे शिलान्‍


 VT PADTAL