VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Thursday 19th of October 2017 | गुरेज की LOC में जवानों के बीच पहुंचे PM मोदी

गुरेज की LOC में जवानों के बीच पहुंचे PM मोदी, सेना के लिए कहा यही है मेरा परिवार 


गुरेज। पीएम नरेंद्र मोदी इस साल जम्मू-कश्मीर के गुरेज में जवानों के बीच दीपावली मनाने पहुंचे। जहां उन्होने ने सेना के लिए कहा कि यही मेरा परिवार है। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जवानों के बीच पहुंचकर कहा की यहां मुझे नई ऊर्जा मिलती है। यहां उन्होंने जवानों के बलिदान और जज्बे की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि उन्हें बताया गया है कि यहां मौजूद जवान नियमित रूप से योगाभ्यास करते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे उनकी योग्ताएं बढ़ेंगी और शांति भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि सेना में अपनी सेवाएं पूरी करने के बाद जवान बेहतरीन योग प्रशिक्षक बन सकते हैं। 
इस मौके पर पीएम मोदी ने जवानों को संक्षिप्त संबोधन किया जिसमें उन्होंने वन रैंक वन पेंशन का ज़िक्र करके बताया कि उनकी सरकार ने सेना के 40 साल की पुरानी मांग को पूरा करके उनका हक अदा किया है। सेना की तारीफ और उनसे मिलने वाली प्ररेणा का ज़िक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “सैनिकों का जीवन तपस्या है। जब मैं आप से हाथ मिलाता हूं तो मुझे नई उर्जा मिलती है.”
इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विजिटर्स बुक में लिखा है कि, उन्हें जवानों के साथ दिवाली का त्योहार मनाने का मौका मिला है। त्योहार के इस अवसर पर, सीमा पर बहादुर सैनिकों की उपस्थिति उम्मीदों का दीप जलाती है, और करोड़ों भारतीयों के बीच नई ऊर्जा जगाती है। उन्होंने कहा, 'न्यू इंडिया के सपने को पूरा करने के लिए, हम सबके लिए मिलकर काम करने का यह सुनहरा अवसर है। सेना भी इसका एक हिस्सा है।'


 


जिस पत्रकारिता का कभी स्वर्णिम युग ना था , उसमे स्वर्णिम व्यक्तित्व की तरह उ

अटल जी के निधन से आहत हुआ देश !


 VT PADTAL