VT Update
ओंकारेश्वर बांध विस्थापितों को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, कोर्ट ने सरकार को दिया आदेश विस्थापितों को उपलब्ध कराएं बेहतर भूमि। प्रदेश के भिंड में चार लोगों की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा। शहडोल उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रही हिमाद्री सिंह ने आज कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा भाजपा का दामन कमलनाथ सरकार को जबलपुर हाईकोर्ट से तगड़ा झटका, ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण देने पर लगाई रोक। टिकट को लेकर भाजपा में मचा घमासान, दावेदारों ने प्रदेश कार्यालय के सामने की नारेबाजी।
Saturday 21st of October 2017 | दुनिया को चीन की धमकी

दुनिया को चीन की धमकी, धर्मगुरु दलाईलामा से मुलाकात बड़ा जुर्म 


बीजिंग (चीन)। शनीवार को फिर से एक बार ड्रैगन ने आग उगलते हुए अपने गलत मंसूबों को दिशा देने के लिए एक बेबुनियादी बयान जारी किया है। दरअसल चीन ने वर्ल्ड लीडर्स को दलाई लामा से दूर रहने की चेतावनी देते हुए कहा है कि, अगर वर्ल्ड लीडर्स दलाई लामा से मुलाकात करते हैं तो, इसे एक बड़ा जुर्म मामना जाएगा। इसके साथ ही चीन ने धर्मगुरु दलाई लामा को एक अलगाववादी बताया। क्योंकि वे तिब्बत को चीन से अलग करने की कोशिश कर रहे हैं। चीन लगातार दलाई लामा का विरोध करता रहा है, उसका कहना है कि डिप्लोमैटिक रिश्ते रखने वाले देशों के लिए तिब्बत को चीन का हिस्सा मानना जरूरी है।
कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (CPC) लीडर जैन्ग यीजीओंग ने कहा, "कोई भी देश और कोई भी संस्था जो दलाई लामा से मुलाकात करेगा,  चीन की भावनाओं के मद्देनजर ये बड़ा जुर्म होगा। चीन को वैध सरकार के तौर पर स्वीकार करने वाले देशों के लिए ये नियमों का बड़ा उल्लंघन होगा। हम दूसरे देशों और वहां के लीडर्स का ये तर्क नहीं मानेंगे कि उन्होंने दलाई लामा से रिलीजियस लीडर के तौर पर मुलाकात की।" जैन्ग यीजीओंग ने कहा कि 14th दलाई लामा, जिन्हें बुद्ध कहा जाता है,  धर्म के चोले में एक पॉलिटिकल फिगर हैं। उन्होंने भारत का नाम लिए बगैर कहा, "दलाई लामा दूसरे देश में चले गए। अपनी मातृभूमि के साथ धोखा किया और अपनी कथित सरकार को भी निर्वासित छोड़ दिया। इस कथित सरकार का अलगवावादी एजैंडा तिब्बत को चीन से अलग करना है ।
 


भूकंप के झटकों से दहला इंडोनेशिया, अब तक 12 सौ से अधिक की मौत

अब सरकार ने माना 39 भारतीय मारे गए, परिजन बोले इतने दिन अधेरे में क्यों रखा गया


 VT PADTAL