VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
दुनिया को चीन की धमकी

दुनिया को चीन की धमकी, धर्मगुरु दलाईलामा से मुलाकात बड़ा जुर्म 


बीजिंग (चीन)। शनीवार को फिर से एक बार ड्रैगन ने आग उगलते हुए अपने गलत मंसूबों को दिशा देने के लिए एक बेबुनियादी बयान जारी किया है। दरअसल चीन ने वर्ल्ड लीडर्स को दलाई लामा से दूर रहने की चेतावनी देते हुए कहा है कि, अगर वर्ल्ड लीडर्स दलाई लामा से मुलाकात करते हैं तो, इसे एक बड़ा जुर्म मामना जाएगा। इसके साथ ही चीन ने धर्मगुरु दलाई लामा को एक अलगाववादी बताया। क्योंकि वे तिब्बत को चीन से अलग करने की कोशिश कर रहे हैं। चीन लगातार दलाई लामा का विरोध करता रहा है, उसका कहना है कि डिप्लोमैटिक रिश्ते रखने वाले देशों के लिए तिब्बत को चीन का हिस्सा मानना जरूरी है।
कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (CPC) लीडर जैन्ग यीजीओंग ने कहा, "कोई भी देश और कोई भी संस्था जो दलाई लामा से मुलाकात करेगा,  चीन की भावनाओं के मद्देनजर ये बड़ा जुर्म होगा। चीन को वैध सरकार के तौर पर स्वीकार करने वाले देशों के लिए ये नियमों का बड़ा उल्लंघन होगा। हम दूसरे देशों और वहां के लीडर्स का ये तर्क नहीं मानेंगे कि उन्होंने दलाई लामा से रिलीजियस लीडर के तौर पर मुलाकात की।" जैन्ग यीजीओंग ने कहा कि 14th दलाई लामा, जिन्हें बुद्ध कहा जाता है,  धर्म के चोले में एक पॉलिटिकल फिगर हैं। उन्होंने भारत का नाम लिए बगैर कहा, "दलाई लामा दूसरे देश में चले गए। अपनी मातृभूमि के साथ धोखा किया और अपनी कथित सरकार को भी निर्वासित छोड़ दिया। इस कथित सरकार का अलगवावादी एजैंडा तिब्बत को चीन से अलग करना है ।
 


आतंकवाद पर डोनाल्ड ट्रंप ने की घोषणा

भारत के दलवीर भंडारी बने अंतरराष्ट्रीय अदालत में जज


 VT PADTAL