VT Update
पूर्व विधायक शीला त्यागी के सरकारी जमीन हथियाने की मंशा पर फिरा पानी, कानूनी लाभ पहुंचाने तहसीलदार ने सरकारी भूमि का पहले से किया नामांतरण सांसद विधायक आए तो अफसर उठकर दोनों हाथ जोड़कर करें नमस्कार, शासन ने जारी किया आदेश, माननीय के सत्कार में ना हो कोई कमी इंटरसिटी बसों के लिए ऑपरेटर चयन में गड़बड़ी, लोकायुक्त तक पहुंचा मामला, आरटीआई में जानकारी देने में भी बीसीएलएल के अफसरों पर आनाकानी का आरोप खाद्य निरीक्षक 50,000 की रिश्वत लेते गिरफ्तार सहायक खाद्य अधिकारी फरार, लोकायुक्त पुलिस ने दोनों अफसरों के खिलाफ दर्ज किया मुकदमा मध्य प्रदेश के छह मेडिकल कॉलेज में बढ़ेगी 803 पीजी सीटें, केंद्र सरकार की मिली मंजूरी
Saturday 13th of April 2019 | ELECTION:एक युवा प्रत्याशी जो कल करोड़ों की आवाज बन सकता है

किसी को तो आगे आना होगा इसलिए मैं आगे आया:प्रीतेश पाण्डेय


वर्तमान राजनीति किसी से छिपी नहीं है. देशभर में समाजवाद का चोला ओढ़कर पूंजीवादी सोच और विचारधारा के लोग राजनीति में उतर आये हैं और उसी राजनीति की बदौलत अपने व्यापर उद्द्योग को आगे बाधा रहे हैं.सवाल पूछने पर उनकी नक् चढ़ जाती है विरोध करने पर कुचलने की धमकी देंते है तो आप ही बताइए की ऐसे में कैसे सुनी जाएगी जनता की आवाज ये कहना है रायपुर लोकसभा के युवा (25 वर्षीय) प्रत्याशी प्रितेश पाण्डेय का.

प्रितेश रंगकर्मी हैं और रंगमंच में जब कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करता है तो देश,समाज,युवा,पीड़ित सबकी परिस्थियों को मंच पर उतारता है.रंगकर्मी हर दर्द को महसूस कर जनता के सामने हकीकत को परोसता है.छत्तीसगढ़ के छोटे से खूबसूरत शहर में जन्मे प्रीतेश ने बहुत कम उम्र में अपनी माटी छत्तीसगढ़ को बखूबी समझा है.आज प्रितेश रायपुर से चुनाव मैदान में हैं निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में और आयोग ने चुनाव चिन्ह दिया तुरहा बजाता आदमी.

लोग कहते हैं कैसे करोगे-

प्रितेश बताते हैं की उनके चुनाव लड़ने का मन बनाने के बाद जब उन्होंने लोगों से अपने विचार साझा किये तो लोगों ने कहा की कैसे करोगे.चुनाव में बहुत खर्च आता है.तब प्रितेश ने कहा की इसी व्यवस्था से तो लड़ाई है किताबों में पढ़ा था जनता की लड़ाई,जनता के द्वारा,जनता के हित के लिए,जनता द्वारा चुनी गयी सरकार यही लोकतंत्र की परिभाषा बताई गयी थी लेकिन परिस्थितियां सामने हैं युवा अधिकारों से वंचित है,किसान बस उम्मीद लगाये खड़ा हुआ है तो मैंने सोचा अब मैं ही आगे आता हूँ.प्रितेश बताते हैं की ये लड़ाई अकेले मेरी या एक राज्य के युवा की नहीं हैं बल्की ये लड़ाई देश के हर युवा की है.देश को युवा नेतृत्व पर भरोषा है इसलिए यह कदम मैंने जरुर बढाया है लेकिन अब आगे आने वाले समय में यह जनांदोलन बनकर  एक बड़ी लड़ाई बनेगी.

प्रचार का तरीका दिल छू गया-

प्रितेश की तस्वीरे सोशल मीडिया में ट्रोल हो रही हैं.देश के हर बड़े अखबार,पोर्टल ने उन्हें कवर किया है.लोकतंत्र के महापर्व चुनाव में प्रीतेश उतनी ही ताकत के साथ लड़ रहे है जितनी ताकत से बड़ी पूंजी वाले दल लड़ते हैं.चौराहों पर एक तख्ती लिए प्रितेश वोट मांग रहे हैं.युवा,बेरोजगार,किसाने अधिकारों की लड़ाई उनके केंद्र में हैं और कहते हैं अगर देश की सांसद तक पहुंचा तो युवाओं,किसान,बेरोजगारों की बात होगी मेरे केंद्र में सिर्फ लोकतंत्र में युवा प्रतिनिधित्व और वंचित तबके के विकास की अवधारणा है.

वाकई देश एक नए बदलाव की ओर अग्रसर है चाहे बात कन्हैया कुमार की हो या छत्तीसगढ़ की रायपुर सीट से चुनाव लड़ रहे प्रीतेश की एक नए भारत की सोच लिए ये युवा आगे बढ़ रहे हैं.  


छत्तीसगढ़ सीएम ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर दिया बड़ा ब

उन्नाव रेप पीड़ित पर  छग सीएम भूपेश बघेल का बड़ा बयान


 VT PADTAL