VT Update
उज्जैन सांसद चिंतामणि ने किया दावा, लोकसभा चुनाव में भाजपा जीतेगी प्रदेश की 29 सीटें। मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद शुरू हुई उलटफेर की राजनीति, कांग्रेस ठोक रही सरकार बनाने के दावा, कामत को नया सीएम बनाने की चर्चा तेज भिंड जिले के खड़ेरीपुर में मामूली विवाद में चली गोली, दो लोगों की मौत आधा दर्जन से अधिक लोग घायल। लोकसभा चुनाव को लेकर जारी उठा-पटक, दिग्गी ने स्वीकार किया सीएम नाथ का चैलेंजे, बोले- पार्टी जहां से बोले वहां से लडूंगा चुनाव। कार्रवाई का लेखाजोखा पेश न करने वाले प्रदेश के दस जिलों के थाने आयोग की रडार पर, लापरवाही बरतने पर थाना प्रभारियों पर गिर सकती है गाज
Saturday 21st of October 2017 | श्री राम की आरती करने पर मुस्लिम महिलाएं इस्लाम से खारिज

श्री राम की आरती करने पर मुस्लिम महिलाएं इस्लाम से खारिज


वाराणसी(यूपी)। दीपावली के दिन वाराणसी में भगवान श्री राम की अरती करने वाली कुछ महिलाओं पर विश्वविख्यात इस्लामिक शिक्षण संस्था दारुम उलूम देवबंद ने फतवा जारी कर इस्लाम से खारिज कर दिया है। इसके साथ ही मुस्लिन महिलाओं द्वारा दीपावाली के मौके पर भगवान श्री राम की आरती करने को लेकर दारूल  उलेमा ने अजीबोगरीब बयान दिया है। उलेमा ने अपने बयान में कहा है कि, अल्लाह के सिवा किसी और की पूजा अर्चना करने वाले मुस्लिम नहीं रहते। गौरतलब है कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 18 अक्टूबर को अयोध्या में दिवाली उत्सव का आयोजन किया था, इसी दिन मुस्लिम महिलाओं के एक समूह ने वाराणसी में भगवान राम की पूजा और आरती की थी। 
हुकुलगंज की वरुणानगरम् कॉलोनी में नाजनीन की अगुवाई में महिलाओं के समूह ने आरती की थाल के साथ भगवान राम की उतारी और हनुमान चालीसा का पाठ किया। इस कार्यक्रम का आयोजन मुस्लिम महिला फाउंडेशन और विशाल भारत संस्थान की ओर सामाजिक सौहार्द का संदेश देने के लिए किया गया था। बता दें कि 2006 में वाराणसी स्थित संकट मोचन मंदिर में आतंकी बम धमाके के बाद से श्रीराम की आरती किए जाने की प्रथा चली आ रही है। उस समय से मुस्लिम महिला फाउंडेशन की प्रेसिडेंट नाजनीन और महिलाओं का एक समूह रामनवमी और दिवाली के मौके पर आरती और पूजा करता आ रहा है। 


 


Realme 3 भारत में हुआ लॉन्च, Redmi Note 7 को दे सकता है टक्कर

Samsung Galaxy A50, Galaxy A30 और Galaxy A10 भारत में हुआ लॉन्च, जानिए क्या है खासियत


 VT PADTAL