VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Sunday 22nd of October 2017 | भूख से दम तोड़ने वाली बच्ची के परिवार को क्यूं छोड़ना पड़ा गांव ?

भूख से दम तोड़ने वाली बच्ची के परिवार को क्यूं छोड़ना पड़ा गांव ?


रांची (झारखंड)। झारखंड में सिमडेगा जिले के कारीमाटी गांव में भूख से दम तोड़ने वाली 11 साल की संतोषी कुमारी की मां कोयली देवी ने शनीवार की सुबह अपने परिवार के साथ गांव छोड़ दिया था। जानकारी के मुताविक संतोषी ने अपने परिवार के साथ पड़ोस के गांव पतिअंबा में संतोष साहू के घर में शरण ली थी। वहीं इस घटना की सूचना मिलने के बाद प्रशासनिक स्तर पर हड़कंप मचा हुआ था। उपायुक्त ने फौरन जलडेगा बीडीओ और थाना प्रभारी को कोयली देवी के परिवार को वापस उसके घर लाने का निर्देश दिया। जिसके बाद पुलिस और प्रशासन की टीम पतिअंबा गांव पहुंकर पूरी सुरक्षा में कोयली देवी और उसके परिवार को पांच घंटे बाद वापस कारीमाटी स्थित उनके घर पहुंचाया दिया है। 
अखिर क्यूं छोड़कर जाना पड़ा गांव ?
दरअसल शुक्रवार की शाम कुछ लोग अचानक कोयली देवी के घर में घुस आते है, और गांव छोड़ कर जाने की धमकी देने लगेते है। और धमकी मिलने के बाद संतोषी देवी का परिवार बुरी तरह से डर जाता और अपनी जान बचाने के लिए अगले ही दिन यानी शनीवार को अपना घर और गांव छोड़ देता है। मामले की जानकारी जब प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंती है तो, प्रशासनिक स्तर पर हड़कंप मच जाता है। और उपायुक्त के निर्देश के बाद फौरन मामले को दवाने के लिए कोयली देवी और उसके परिवार को पांच घंटे बाद वापस उनके घर ले आया जाता है। वहीं इस घटना को लेकर झारखंड सरकार की खूब किरकिरी के बाद राज्य सरकार द्वारा  एक अहम फैसला लेते हुए राशन के लिए आधार कार्ड की अनिवार्यता खत्म कर दी है। 
गौरतलब है कि 11 साल की संतोषी कुमारी को कई दिनों से खाना नहीं मिलने से उसकी मौत हो गई थी। जिसका कारण स्थानीय राशन डीलर द्वार महीनों पहले उसके परिवार का राशन कार्ड को रद्द कर देना बताया जा रहा था। राशन डीलर की दलील थी कि राशन कार्ड आधार नंबर से लिंक नहीं था, इस लिए राशन नहीं दिया जा सका। 
 


एक देश एक चुनाव पर क्या आज़ बन पायेगी सहमति | ममता बनर्जी नहीं होंगी बैठक में श

भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर नरेन्द्र मोदी और अमित शाह लेंगे फैसला,


 VT PADTAL