VT Update
देवर ने अपनी ही भाभी के ऊपर कुल्हाड़ी से वार कर उतारा मौत के घाट, सीधी जिले के हरडोल की है घटना , भाइयों के बीच चल रह था जमिनी विवाद 50 फीसदी से कम अंक पाने वाले अयोग्य शिक्षकों ने दी परीक्षा , तीन से चार दिन में आएगा परिणाम , नंबर कम आने पर सेवा से होंगे बाहर . पदोन्नति में आरक्षण के मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में प्रदेश सरकार कर्मचारियो के लिए आज दाखिल करेगी अर्जी , बिना पदोन्नति के हजारो कर्मचारी सेवानिवृत, सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई नेत्रहीन महिला आईएएस प्रांजल पाटिल ने संभाला कार्यभार, देश की पहली नेत्रहीन आईएएस है प्रांजल , रेलवे में नौकरी न मिलने के बाद ठानी आईएएस बनने की नरसिंहपुर में 70 करोड़ से अधिक के विकास कार्यों का लोकार्पण करने पहुचे मुख्यमंत्री कमलनाथ कहा- कृषि में नई क्रांति लाने की आवश्यकता, कृषि क्षेत्र की उन्नति और किसानो की आय बढ़ने को लेकर होगा व्यापक सुधार
Monday 22nd of April 2019 | धमाकों से दहला श्रीलंका

श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों के पीछे नेशनल तौहीद जमात संगठन का नाम


 

श्रीलंका के इतिहास में हुए सबसे बड़ी आतंकी घटना के पीछे नेशनल तौहीद जमात नाम के स्थानीय संगठन का हाथ था। श्रीलंका के एक शीर्ष मंत्री ने सोमवार को यह जानकारी दी। ईस्टर के मौके पर हुए इस घातक हमले में करीब 290 लोगों की मौत हो गई थी वहीँ 500 अन्य घायल हो गए थे।श्रीलंका के स्वास्थ्य मंत्री एवं सरकारी प्रवक्ता रजीत सेनारत्ने ने भी कहा कि विस्फोट में शामिल सभी आत्मघाती हमलावर श्रीलंकाई नागरिक मालूम हो रहे हैं।

वहां संवाददाता सम्मेलन में मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय इंटेलिजेंस एजेंसी के प्रमुख ने 11 अप्रैल से पहले इन हमलों की आशंका को लेकर पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) को आगाह किया था। सेनारत्ने ने कहा, चार अप्रैल को, अंतरराष्ट्रीय खुफिया एजेंसियों ने इन हमलों को लेकर आगाह किया था। आईजीपी को नौ अप्रैल को सूचित किया गया था।”

 

सेनारत्ने ने कहा कि कट्टर मुस्लिम समूह -नेशनल तौहीद जमात नाम के स्थानीय संगठन को इन घातक विस्फोटों को अंजाम देने के पीछे माना जा रहा है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि इसके तार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी जुड़े हुए हों । इस मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

सेनारत्ने ने सुरक्षा में हुई इस बड़ी चूक के लिए पुलिस प्रमुख पुजीत जयासुंदरा का इस्तीफा मांगा है। सरकार के एक मंत्री एवं मुख्य मुस्लिम पार्टी - श्रीलंकन मुस्लिम कांग्रेस के नेता रॉफ हकीम ने कहा कि यह निराशाजनक है कि इस तरह की जानकारी के बावजूद कोई सुरक्षात्मक कदम नहीं उठाए गए। प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने कहा था कि इस बारे में जांच जरूर की जाएगी कि खुफिया विभाग की खबरों को गंभीरता से क्यों नहीं लिया गया। इस बीच, राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने हमलों की जांच के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है। उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश विजित मलालगौड़ा, पूर्व आईजीपी एन के इलंगाकून और पूर्व कानून एवं व्यवस्था सचिव पद्मसिरी जयामणे इस समिति में शामिल हैं।


डोनल्ड ट्रंप ने पेश किया नई प्रवासन नीति का ख़ाका, युवा, पढ़े-लिखे और अंग्रेज

श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों के पीछे नेशनल तौहीद जमात संगठन का नाम


 VT PADTAL


 Rewa

ससुराल वालों पर लगा दहेज़ प्रताड़ना का आरोप, परिजनों के मुताबिक महिला को किया आग के हवाले
Wednesday 16th of October 2019
सरदार सेना एवं पिछड़ा वर्ग सामाजिक संगठन ने दिया धरना, लौह पुरुष की प्रतिमा तोड़ने पर किया जाएगा उग्र आंदोलन
Wednesday 16th of October 2019
अखिल भारतीय ब्रम्हण समाज के प्रदेशाअध्यक्ष ने आयोजित की प्रेसवार्ता, कांग्रेस शहर अध्यक्ष पर लगाया आरोप, माफ़ी ना मागने पर पुतला फुकने की दी चेतावनी
Wednesday 16th of October 2019
बीजेपी महिला नेत्रियो ने निगमायुक्त भेंट की चूड़ी, निगमायुक्त को विकास विरोधी दिया करार
Wednesday 16th of October 2019
रीवा पुलिस ने किया चोरी का खुलासा आरोपियों को किया गया गिरफ्तार
Monday 14th of October 2019
युवक का अपहरण कर पेड़ से बांधकर पीटा, 4 गिरफ्तार, इटौरा बायपास पर हुई वारदात
Monday 14th of October 2019