VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Tuesday 24th of October 2017 | 15 फाइटर प्लेन्स ने किया टचडाउन

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर भारतीय वायुसेना ने दिखाई अपनी ताकत


लखनऊ (यूपी)।  उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में मंगलवार को आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर यरफोर्स के 15 फाइटर प्लेन्स का टचडाउन हुआ। सबसे पहले कैरियर एयरक्राफ्ट सुपर हरक्यूलिस की लैंडिंग हुई। इसके बाद 6 मिराज-2000, 6 सुखोई-30 और 3 जगुआर फाइटर जेट ने टचडाउन किया। ये दूसरा मौका है जब इस एक्सप्रेस-वे पर फाइटर प्लेन्स ने लैंड किया। पिछले साल 21 नवंबर को भी यहां टचडाउन हुआ था। हरक्यूलिस ने गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस से अपनी उड़ान भरी, और एक्सप्रेस वे पर लैंडिंग होने के हाद हरक्यूलिस से गरुड़ कमांडो उतरे। इस बार हरक्यूलिस ने 2 बार टचडाउन किया। 
उन्नाव के बांगरमऊ क्षेत्र में आज लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर भारतीय वायुसेना से फाइटर प्लेन गरज रहे थे। मात्र 15 से 20 सेकेंड में यह विमान लखनऊ-आगरा एक्सप्रसवे पर उतरे। नजारा देखने वाला था ।  युसेना ने भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए आज हाइवे पर उड़ान भरी। ऐसा पहली बार हुआ जब उन्नाव के पास बांगरमऊ हाइवे पर 17 विमान ने हाइवे पर टचडाउन किया। इससे पहले जब एक्सप्रेस-वे बन रहा था, तभी वायुसेना के अनुरोध पर चार किलोमीटर का पैच रनवे की तरह ही तकनीकी तौर पर मजबूत और सॉलिड बनाया गया था।
भारतीय वायुसेना के 15 लड़ाकू विमानों ने आगरा एक्सप्रेस-वे पर आज इतिहास रचा। पिछले 15 दिनों से इन 15 लड़ाकू विमानों के जांबाज पायलट कड़ा अभ्यास कर रहे थे। लड़ाकू विमान सुपरसोनिक सुखोई एसयू-30, जगुआर और मिराज जब आगरा एक्सप्रेस-वे पर उतरे तो उनकी गति 260 किलोमीटर प्रतिघंटा थी।
देश में ऐसा प्रयोग पहली बार 2015 में किया गया था, जब वायुसेना के मिराज लड़ाकू विमान ने किसी राजमार्ग पर टच डाउन किया था। दूसरी बार ऐसा प्रयोग बीते साल लखनऊ के पास इसी जगह पर किया गया था, जो पूरी तरह से सफल रहा था। दलअसल ऐसा इस कारण से किया जा रहा है कि अगर जंग के दौरान अगर आपका एयरबेस बरबाद हो जाता है तो ऐसे राजमार्ग का बखूबी इस्तेमाल किया जा सकता है।


कांग्रेस की कार्य समिति गठित, इस बार दिग्विजय को नही मिली जगह

 पीएम मोदी दो दिवसीय पूर्वांचल दौरे पर, करोड़ों की योजनाओं का करेंगे शिलान्‍


 VT PADTAL