VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Wednesday 25th of October 2017 | ठुमरी की रानी गिरिजा देवी।  

नहीं रही प्रख्यात शास्त्रीय गायिका, ठुमरी की रानी गिरिजा देवी।  


ऑल इंडिया रेडियो इलाहाबाद पर सन 1949 में अपने गायन की सार्वजनिक शुरुआत करने वाली, ठुमरी राग की रानी कहे जाने वाली पद्म विभूषण से सम्मानित प्रख्यात शास्त्रीय गायिका गिरिजा देवी का मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से कोलकाता के एक अस्पताल में 88 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। 

गिरिजा देवी का जन्म 8 मई 1929 को बनारस में एक उच्च वर्ग के परिवार में हुआ। 1949 में 20 साल की उम्र में पहली बार गिरिजा देवी ने पहली बार अपनी कला लोगों के सामने पेश की, लेकिन इसके लिए उन्हे अपने परिवार के खासा विरोध का सामना करना पढ़ा। क्यूंकि उस वक्त किसी भी उच्च परिवार की महिला का सार्वजनिक तौर पर गाना गाना अच्छा नहीं माना जाता था। जिसके बाद गिरजा देवी ने दूसरों के लिए निजी तौर पर प्रदर्शन करने से मना कर दिया था, लेकिन फिर 1951 में बिहार में उन्होने अपना पहला सार्वजनिक संगीत कार्यक्रम किया। और इसके बाद वो लगातार अपने मधुर गायन की वजह से मशहूर होती गई। 1980 के दशक में कोलकाता में आईटीसी संगीत रिसर्च एकेडमी और 1990 के दशक के दौरान बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संगीत संकाय के एक सदस्य के रूप में उन्होने काम किया। इसके साथ ही उन्होने संगीत की इस अलौकिक मधुर धरोहर को बचाए रखने के लिए कई छात्रों को शिक्षा भी दी। 

गिरिजा देवी के प्रदर्शनों की सूची अर्द्ध शास्त्रीय शैलियों कजरी, चैती और होली भी शामिल है। ठुमरी में महारत प्राप्त गिरिजा देवी भारतीय लोक संगीत और टप्पा भी गाती थी। 
गिरिजा देवी अपने गायन शैली में अर्द्ध शास्त्रीय गायन बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के गाने के क्षेत्रीय विशेषताओं का मिश्रण कर के उसके शास्त्रीय प्रशिक्षण को जोड़कर एक तरह के संगीत का सृजन करना ही उनकी खासियत थी, गिरजी देवी को ठुमरी की रानी के रुप में भी माना जाता है। 


 


एक देश एक चुनाव पर क्या आज़ बन पायेगी सहमति | ममता बनर्जी नहीं होंगी बैठक में श

भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर नरेन्द्र मोदी और अमित शाह लेंगे फैसला,


 VT PADTAL