VT Update
विंध्य के सबसे बड़े अस्पताल संजय गांधी की सुरक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, अस्पताल के पार्किंग से चोरी हुई बोलेरो वाहन रीवा मेडिकल कॉलेज में लगेगा रूफटाफ का प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर प्रोजेक्ट मतदाता जागरूकता के लिए रवाना हुई बुलेट रैली, कलेक्टर प्रीति मैथिल ने दिखाई हरी झंडी मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में घटिया पुल निर्माण पर गिरी गाज, पीडब्लयूडी के चार अफसर सस्पेंड रीवा सहित प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनायी गई कृष्ण जन्माष्टमी, शिल्पी प्लाजा में हुआ मटकी फोड़ने का भव्य आयोजन
Thursday 26th of October 2017 | OTP के जरिए आधारकार्ड से वेरिफाई होगा मोबाइल नंबर

OTP के जरिए आधारकार्ड से वेरिफाई होगा मोबाइल नंबर ।


नई दिल्ली।  सरकार ने सिम कार्ड को आधार से वेरिफाइ करने की प्रक्रिया को आसान कर दिया है। इसके लिए आपको कही जाने की जरूरत नहीं है, आप घर बैठे सिर्फ एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) के जरिए सिम को आधार से लिंक कर पाएंगे। बता दें कि अभी तक मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कराने के लिए एनरॉलमेंट सेंटर जाना होता है। अगर अपने अभी तक अपने सिम कार्ड को आधार से नहीं जोड़ा है तो यह खबर आपके काम की है। 

दरअसल  मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, री-वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को आसान किया जाएगा और मोबाइल यूजर्स घर बैठे ही मोबाइल नंबर आधार से वेरिफाइ करा पाएंगे। मोबाइल नंबर से आधार कार्ड लिंक कराने की प्रक्रिया को आसान करने के लिए सरकार वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) और आपके घर पर री-वेरिफिकेशन की सुविधा दे सकती है। अभी तक मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कराने के लिए एनरॉलमेंट सेंटर जाना पढ़ा था लेकिन अब ये नहीं करना पड़ेगा। 

सरकार अब मोबाइल वेरिफिकेशन के लिए राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस और पासपोर्ट के इस्तेमाल पर विचार कर रही है ।  वहीं दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मोबाइल को आधार से लिंक करने को लेकर खुलकर विरोध में में आ गई हैं। ममता बनर्जी पहले भी बीजेपी के नोटबंदी और जीएसटी के फैसले का विरोध कर चुकी हैं। इसकी कड़ी में अब एक और मुद्दा जुड़ गया है। मोबाइल को आधार से लिंक कराने को लेकर ममता ने साफ कर दिया है कि वो आधार को मोबाइल से लिंक नहीं करवाएंगी चाहें उनका नंबर बंद कर दिया जाए।

सूत्रों से मिली जामनकारी के अनुसार यदि एक मोबाइल नंबर आधार डेटाबेस में पंजीकृत है, तो ओटीपी तरीके का इस्तेमाल उस नंबर के पुन: सत्यापन के अलावा संबंधित ग्राहक के अन्य नंबरों के सत्यापन के लिए भी किया जा सकता है। बता दें अब तक करीब 50 करोड मोबाइल नंबर पहले ही आधार डेटाबेस में रजिस्टर्ड हो चुके है। इन सभी मामलों में पुन: सत्यापन के लिए ओटीपी का इस्तेमाल किया जा सकता है।  

साथ ही अब मोबाइल कंपनियों को निर्देश दिया जाएगा कि वो री-वेरिफिकेशन मोबाइल यूजर के घर पर उपलब्ध कराएं। इसका फायदा वरिष्ठ नागरिकों, बीमार व्यक्तियों और दिव्यांगों को मिलेगा। मोबाइल कंपनियों को कहा गया है कि वे ऑनलाइन वेरिफिकेशन के लिए पूरा तंत्र तैयार करें, जिससे यूजर्स को परेशानी न हो। और नया मोबाइल नंबर लेने के लिए आधार कार्ड पहले से अनिवार्य हो। ज्स वजह से सरकार ने पूरे यूजर्स को भी अपना सिम आधार से लिंक करने के कहा गया है। 
 


कांग्रेस की कार्य समिति गठित, इस बार दिग्विजय को नही मिली जगह

 पीएम मोदी दो दिवसीय पूर्वांचल दौरे पर, करोड़ों की योजनाओं का करेंगे शिलान्‍


 VT PADTAL