VT Update
लोकसभा चुनाव खर्च सीमा से अधिक पैसे नहीं लुटा पाएंगे उम्मीदवार, आयोग रखेगा उम्मीदवारों के खर्च पर पैनी नजर। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को विशेषाधिकार हनन की नोटिस, किया गया जवाब तलब, पूर्व सीएम दिग्विजय को मिली क्लीन चीट। अधिकारियों व कर्मचारियों के आमदा पर चुनाव आयोग की रोक, आयोग का निर्देश बिना अनुमति नहीं ग्रहण कर सके नवीन पदस्थापना में कार्यभार। भुवनेश्वर के वेदांता प्लांट में प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाकर्मी को जिंदा जलाया, स्थानीय लोगों को नौकरी देने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी। कांग्रेस को सुमित्रा ताई की चुनौती- इंदौर में उतारे मुझसे बेहत उम्मीदवार, कहा- चुनाव लड़ने में आएगा आनंद।
Saturday 28th of October 2017 | जहरीली शराब पीने से 5 की मौत

जहरीली शराब पीने से 5 की मौत, प्रतिबंध के बावजूद लोगों तक कैसे पहुंची शराब ?


बिहार(पटना)। वैसे तो पूरे बिहार में शराब बंदी है लेकिन फिर भी रोहतास के कराकाट इलाके के दनवार में जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत हो जाती है । और कुछ लोग अस्पताल में भर्ती है जिनकी हालत नाजुक है। ऐसे में बिहार सरकार और सुशासन से लेकर प्रशासन तक ये सवाल करना जरुरी हो जाता है कि, आखिर पूरे बिहार में शराब बेचने, रखने और पीने में पूरी तरह से रोक लगी है तो, फिर कैसे इन लोगों तक जहरीली शराब पहुंची जिसे पीकर 5 लोगों की मौत हो गई ? । 

जानकारी के अनुसार छठ पूजा खत्म होने के बाद शुक्रवार रात यहां एक भोज का आयोजन किया गया था। और भोज के साथ-साथ- शराब की भी व्यवस्था थी। लेकिन पीने वालों को ये नहीं पता था कि, शराब जहरीली है। और 5 लोगों की मौत होने के बाद मामला सामने आया जिसके बाद पता चला कि, सोन दियारा इलाके में अवैध रूप से शराब बनाई जाती है। और वहीं से ये शराब मंगाई गई थी। शराब पीने के बाद इनकी तबीयत बिगड़ने लगी, जिसके बाद इन्हें आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया। जहां दो लोगों की रास्ते में ही मौत हो गई, जबकि तीन ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। 

वहीं इस घटना से गुस्साए लोगों ने नसरीगंज कछवां-आरा मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। जिसके बाद घटना स्थल पर जिला अधिकारी और रोहतास के पुलिस अधीक्षक ने पहुंच कर लोगों को समझाइश देकर चक्काजाम खत्म कराया। 
रोहतास के दनवर इलाके में इस हादसे से कई परिवारों में शोक व्याप्त है।आपको बता दें कि पिछले साल बिहार के गोपालगंज जिले में जहरीली शराब पीने से 16 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद इस इलाके के नगर थाना प्रभारी सभी 25 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था।

अप्रैल 2016 को बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू हुई थी, और इसके सेवन और उत्पादन और कारोबार पर प्रतिबंध लगा हुआ है। जिसके बाद से ही इससे जुड़ा कानून बहस का विषय बना हुआ है। कुछ माह पहले ये ख़बर आई थी कि राजधानी पटना के थानों में ज़ब्त की हुई शराब चूहों ने पी ली है। इस ख़बर को लेकर सरकार की बहुत किरकिरी हुई थी हालांकि बाद में बिहार पुलिस मुख्यालय ने इस ख़बर को ख़ारिज कर दिया था। 

वहीं अब इस घटना के बाद स्थानीय ग्रामीण आक्रोशित हैं। और उनका कहना है कि, प्रतिबंध के बावजूद इलाके में अवैध रूप से शराब बिक रही है । इसके साथ ही घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन पर शराब बेचने को लेकर मिली भगत का आरोप लगाया है। और ठोस कार्रवाई की बात कही है। 


धार में प्रधानमंत्री मोदी ने जनसभा को किया संबोधित, कांग्रेस पर साधा निशाना!

Realme 3 भारत में हुआ लॉन्च, Redmi Note 7 को दे सकता है टक्कर


 VT PADTAL