VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Saturday 28th of October 2017 | "उदारता पूर्वक इस मुद्दे का हल अदालत के बाहर निकाला जा सकता है"

राम मंदिर मसला: "उदारता पूर्वक इस मुद्दे का हल अदालत के बाहर निकाला जा सकता है"


नई दिल्ली। आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक आधात्यमिक गुरू श्री श्री रविशंकर ने राम मंदिर के मसले में कहा है कि, अगर मुझे इस मसले में मध्यस्थता करनी पड़ी तो मैं करुंगा। मिली जानकारी के अनुसार श्री श्री रविशंकर से निर्मोही आखाड़ा और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कुछ सदस्य मिले हैं। उन्होंने रविशंकर से अनुरोध किया है कि वो इस मामले में मध्यस्थता करें। इस मसले पर रविशंकर ने कहा है कि, स्थिति बदल गई है, लोग शांति चाहते हैं।   

खबरों की मानें तो श्री श्री रविशंकर ने बेंगलुरु में निर्मोही अखाड़े और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के नुमाइंदों को बातचीत के लिए बुलाया था। बातचीत के बाद श्रीश्री रविशंकर ने बताया कि निर्मोही अखाड़े और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मेंबर्स ने आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट की बात पर सकारात्मक रुख भी दिखाया। आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा जारी किए बयान में कहा गया है, 'गुरूदेव श्री श्री रविशंकर का मानना है कि राम मंदिर का मुद्दा दोनों समुदायों के लोगों के लिए साथ आने का एक अवसर है। उदारता पूर्वक इस मुद्दे का हल अदालत के बाहर निकाला जा सकता है।'

इसके साथ हि श्री श्री रविशंकर ने कहा कि, 2003-04 में भी प्रयास किए गए थे लेकिन माहौल अब ज्यादा सकारात्मक है। मैं यह अपनी क्षमता परख रहा हूं, जो कि गैर राजनीतिक है। इन सबके बीच बाबरी एक्शन कमेटी ने मुलाकात की खबरों को नकार दिया है। खबर है कि रविशंकर ने निर्मोही आखाड़ा और अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के प्रतिनिधियों से मुलाकात भी की। बता दें कि 5 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में मामले पर अगली सुनवाई होनी है।


एक देश एक चुनाव पर क्या आज़ बन पायेगी सहमति | ममता बनर्जी नहीं होंगी बैठक में श

भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर नरेन्द्र मोदी और अमित शाह लेंगे फैसला,


 VT PADTAL