VT Update
केजरीवाल ने दिया शिवराज को प्रस्ताव शिक्षा में सुधार करना हो तो मनीष को भेज दूँ मध्यप्रदेश सीएम फेस की अटकलों पर शिवराज ने लगाया विराम, कहा कि मेरे ही नेतृत्व में बनेगी भाजपा की अगली सरकार वार्ड क्र 16 में मुख्यमार्ग से परेशान रहवासी, मार्ग का नहीं हो रहा निर्माण, 4 बार किया जा चुका है भूमिपूजन दिल्ली मैट्रो को सितम्बर से बिजली सप्लाई करेगा, बदबार का अल्ट्रामेगा सोलर पावर प्लांट गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के धोबखरी गांव में भाई की जान बचाने नहर में कूदी बहन, हुई मौत
गुजरात के CM अहमद पटेल से क्यूं मांग रहे इस्तीफा..?

गुजरात के CM अहमद पटेल से क्यूं मांग रहे इस्तीफा..?


अहमदाबाद(गुजरात)। विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात में सियासी बवंडर ने तूफराना मचना शुरु कर दिया है। और इस बार स्ट्राईक पर बीजेपी है। बीजेपी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल पर गंभीर आरोप लगाए है। दरअसल गुजरात के सूरत में बुधवार को पुलिस ने दो कथित आतंकियों को गिरफ्तार किया है। जिसके बाद राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया कि इसमें से एक कथित आतंकी उस अस्पताल में काम करता था, जिससे अहमद पटेल जुड़े रहे हैं। बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मांग की है कि, वो अहमद पटेल से इस्तीफा लें। अहमद पटेल ने इन आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए बीजेपी से राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर राजनीति न करने को कहा है। उन्होंने ट्वीट पर कहा है कि, बीजेपी आतंकवाद जैसे मुद्दे पर गुजरात के शांतिप्रिय लोगों को न बांटे।  

वहीं पूरे मामले पर अस्पताल का कहना है कि अहमद पटेल या उनके परिवार का कोई सदस्य ट्रस्टी नहीं है। बता दें कि बुधवार को गुजरात एटीएस ने खूंखार आतंकी संगठन आइएस के दो आतंकियों उबेद और कासिम को गिरफ्तार किया था। इसमें से कासिम सरदार पटेल अस्पताल में इको कार्डियोग्राम टेक्नीशियन के तौर पर काम करता था और उबेद सूरत की डिस्टि्रक्ट कोर्ट में एडवोकेट था।

लेकिन गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, 23 अक्टूबर 2016 को उस अस्पताल का उद्घाटन था। और अहमद पटेल के निमंत्रण पर यहां राष्ट्रपति आए थे। भले ही उन्होंने इस अस्पताल के ट्रस्टी के तौर पर इस्तीफा दे दिया हो लेकिन फिर भी पूरे मामले पर अहद पटेल का सीधा इनवालमेंट है। इस लिए उन्हे इस्तीफा देना चाहिए। 

वहीं पकड़े गए आतंकियों से एटीएस की पूछताछ में बताया कि, उनके निशाने पर अहमदाबाद और बेंगलुरु के यहूदी धर्मस्थल थे। और इन लोगों ने अपनी वारदात को अंजाम देने के लिए रेकी भी कर ली थी । 


रामदेव की टिप्पणी से आहत हुई उमा, पत्र लिख जताई नाराजगी

कमलनाथ की पहली लिस्ट पर ही खड़े हुए सवाल


 VT PADTAL