VT Update
इंदौर में पकड़ाई जिस्म के जादूगरनियों के तार रीवा से भी जुड़े, नगर निगम में तैनात रहे ईंजी हरभजन सिंह को भी किया था ब्लैकमेल, जांच में अहम खुलासा, 20 लोगों से ऐंठ चुकी है 15 करोड़, बरामद की गई 90 वीडियो। अमेरिका के ह्यूस्टन में पीएम मोदी के कार्यक्रम से 24 घंटे पहले बरसा 10 इंच पानी, लगाई गई इमरजेंसी, स्कूल कॅालेजों में की गई छुट्टी, जारी किया गया अलर्ट। वायुसेना को मिला पहला लड़ाकू विमान रफाल, 8 अक्टूबर को सेना में किया जाएगा शामिल, फ्रांस जाएंगे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, 60 हजार करोड़ में दोनों देशों के बीच हुआ सौदा। बीजेपी के धरना प्रदर्शन पर कांग्रेस का वार, कहा- शिवराज को किसानों से हमदर्दी है तो दिल्ली में केंद्र सरकार के खिलाफ करें प्रदर्शन, दिलाए राहत पैकेज। प्रदेश की कमलनाथ सरकार के खिलाफ विपक्ष का हल्ला बोल, बीजेपी ने प्रदेश के सभी जिलों व तहसीलों में किया प्रदर्शन, की किसानों को राहत दिए जाने की मांग, सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप।
Saturday 1st of June 2019 | अमेरिका से भारत को बड़ा झटका

मोदी सरकार को झटका, ट्रंप ने भारत से छिना जीएसपी, व्यापार हो सकता है प्रभावित


अपने दूसरी पारी की धमाकेदार शुरूआत करने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका से बड़ा झटका मिला है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को भारत को मिलने वाले जीएसपी दर्जे को खत्म करने का निर्णय लिया है। जिससे भारत को व्यापार में मिलने वाली छूट का अधिकार समाप्त हो जाएगा। जेनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफरेंसेज या सामान्य तरजीही प्रणाली (जीएसपी) अमेरिका की ओर से बाकी देशों को बिजनेस में दी जाने वाली छूट की सबसे पुरानी और बड़ी प्रणाली है। इसके तहत दर्जा पाने देशों को हजारों सामान बिना किसी शुल्क के अमेरिका को एक्सपोर्ट करने की छूट मिलती है। व्हाइट हाउस की घोषणा के मुताबिक भारत का जीएसपी दर्जा 5 जून 2019 को खत्म हो जाएगा। ट्रंप ने चार मार्च को इस बात की घोषणा की थी कि वह जीएसपी प्रोग्राम से भारत को बाहर करने वाले हैं। इसके बाद 60 दिनों की नोटिस अवधि तीन मई को खत्म हो गई।

        दरअसल, अमेरिकी सरकार ने यह निर्णय भारत सरकार से भारतीय बाजार में अमेरिका को बेहतर पहुंच दिलाने का आश्वासन न मिलने के कारण यह निर्णय लिया है। इसके साथ ही राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत सरकार के इस रवैये के कारण अब भारत का जीएसपी दर्जा पाए देशों की सूची से बाहर होना तय है। उन्होंने कहा कि अब काम यह है कि हम आगे कैसे बढ़ते हैं, आगे का रास्ता ढूंढने के लिए हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार के साथ किस प्रकार से काम कर पाते हैं। इन सब के इतर ट्रंप ने कहा कि यदि भारत अपने बाजार में अमेरिकी कंपनियों को सही और समान पहुंच दी तो तरजीही व्यापार प्रोग्राम का फायदा फिर से बहाल किया जा सकता है।  अमेरिका के इस निर्णय के बाद से अब नजरें भारत की सरकार पर टिकीं हुई है कि सरकार अमेरिका के इस निर्णय पर आर्थिक चुनौतियों और व्यापार में आने वाली समस्या को निपटाने के लिए क्या कदम उठाती है। वहीं, अमेरिका को भी भारत के जवाब का इंतजार है। हालांकि अभी तक भारत सरकार की ओर से इस मामले पर कोई अधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।


डोनल्ड ट्रंप ने पेश किया नई प्रवासन नीति का ख़ाका, युवा, पढ़े-लिखे और अंग्रेज

श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों के पीछे नेशनल तौहीद जमात संगठन का नाम


 VT PADTAL