VT Update
पूर्व प्राचार्य पर दर्ज F.I.R रद्द करने की उठी मांग, प्राध्यापको ने की बैठक ब्रम्हण समाज ने सौपा एस.पी को ज्ञापन R.P.F के D.I.G विजय कुमार खातरकर रेलवे ने रेलवे अफसर की पत्नी के साथ की छेड़छाड़, नरसिंहपुर के पास ओवरनाइट एक्सप्रेस मे वारदात,F.I.R दर्ज इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट अब बन गया अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, सोमवार को पहली बार इंदौर से दुबई के लिए अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट ने भरी उड़ान राहुल के इस्तीफे के 50 दिन बाद भी अब तक किसी को नहीं चुना गया कांग्रेस अध्यक्ष , कर्नाटक विवाद सुलझने के बाद फैसले की उम्मीद भारतीय नौसेना की बढ़ाई जा रही ताकत, जल्द खरीदी जा सकती हैं 100 टारपीडो मिसाइल, 2000 करोड़ का टेंडर जारी
Saturday 1st of June 2019 | अमेरिका से भारत को बड़ा झटका

मोदी सरकार को झटका, ट्रंप ने भारत से छिना जीएसपी, व्यापार हो सकता है प्रभावित


अपने दूसरी पारी की धमाकेदार शुरूआत करने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका से बड़ा झटका मिला है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को भारत को मिलने वाले जीएसपी दर्जे को खत्म करने का निर्णय लिया है। जिससे भारत को व्यापार में मिलने वाली छूट का अधिकार समाप्त हो जाएगा। जेनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफरेंसेज या सामान्य तरजीही प्रणाली (जीएसपी) अमेरिका की ओर से बाकी देशों को बिजनेस में दी जाने वाली छूट की सबसे पुरानी और बड़ी प्रणाली है। इसके तहत दर्जा पाने देशों को हजारों सामान बिना किसी शुल्क के अमेरिका को एक्सपोर्ट करने की छूट मिलती है। व्हाइट हाउस की घोषणा के मुताबिक भारत का जीएसपी दर्जा 5 जून 2019 को खत्म हो जाएगा। ट्रंप ने चार मार्च को इस बात की घोषणा की थी कि वह जीएसपी प्रोग्राम से भारत को बाहर करने वाले हैं। इसके बाद 60 दिनों की नोटिस अवधि तीन मई को खत्म हो गई।

        दरअसल, अमेरिकी सरकार ने यह निर्णय भारत सरकार से भारतीय बाजार में अमेरिका को बेहतर पहुंच दिलाने का आश्वासन न मिलने के कारण यह निर्णय लिया है। इसके साथ ही राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत सरकार के इस रवैये के कारण अब भारत का जीएसपी दर्जा पाए देशों की सूची से बाहर होना तय है। उन्होंने कहा कि अब काम यह है कि हम आगे कैसे बढ़ते हैं, आगे का रास्ता ढूंढने के लिए हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार के साथ किस प्रकार से काम कर पाते हैं। इन सब के इतर ट्रंप ने कहा कि यदि भारत अपने बाजार में अमेरिकी कंपनियों को सही और समान पहुंच दी तो तरजीही व्यापार प्रोग्राम का फायदा फिर से बहाल किया जा सकता है।  अमेरिका के इस निर्णय के बाद से अब नजरें भारत की सरकार पर टिकीं हुई है कि सरकार अमेरिका के इस निर्णय पर आर्थिक चुनौतियों और व्यापार में आने वाली समस्या को निपटाने के लिए क्या कदम उठाती है। वहीं, अमेरिका को भी भारत के जवाब का इंतजार है। हालांकि अभी तक भारत सरकार की ओर से इस मामले पर कोई अधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।


गूगल ने डूडल के माध्यम से महिलओं को दिया सम्मान

वैलेंटाइन डे के स्थान पर सिस्टर डे मनाएगा पाकिस्तान का यह विश्वविद्यालय


 VT PADTAL