VT Update
रीवा- सतना रेल लाइन में पहली बार दौड़ा विद्युत इंजन, दिसंबर के आखरी तक ट्रेन दौड़ाने के तैयारी सहकारी बैंक के 245 कर्मचारी हड़ताल पर डटे, आयुक्त का फरमान , हड़तालियों को तीन माह का वेतन देकर करो बाहरआंदोलनकारियोंने रैली निकाल , सौपा ज्ञापन प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों व पेंशनर्स को प्राइवेट अस्पतालों में मिलेगा कैशलेस उपचार, 1 अप्रैल से लागू हो सकती है योजना भाजपा की 33 जिला अध्यक्षों की हुई घोषणा दिग्गज नेताओं के कारण अटके बड़े जिलों के नाम नेताओं ने दिल्ली जाकर अपने चहेतों का सूची में जुड़वा लिया नाम प्रदेश के माफिया राज खत्म करेगी कमलनाथ सरकार हनी ट्रैप के बाद एक्शन में मध्य प्रदेश सरकार नहीं चलेगा राजनीतिक स्वरूप शिवराज ने किया समर्थन
Tuesday 25th of June 2019 | बेहतर संबंधो की दौड़ में पीछे रहा ब्रिटेन

ब्रिटिश संसदीय रिपोर्ट - भारत के साथ बेहतर संबंधों की दौड़ में पिछड़ रहा ब्रिटेन


ब्रिटिश संसदीय रिपोर्ट - भारत के साथ बेहतर संबंधों की दौड़ में पिछड़ रहा ब्रिटेन

ब्रिटिश संसदीय रिपोर्ट में भारत-ब्रिटेन के बीच संबंधों को बेहतर बनाने के उद्देश्य से जारी की गई रिपोर्ट्स जिसमे भारतीय पर्यटकों, छात्रों और पेशेवरों के लिए बेहतर वीजा नीति बनाकर संबंधों को सुधारने के लिए कहा गया है.

वैश्‍विक संबंधों की रेस में भारत के साथ ब्रिटेन काफी पीछे हो रहा है, संसद से जारी एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है, ब्रिटिश संसदीय जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि उभरते भारत के साथ बेहतर संबंधों की वैश्विक दौड़ में ब्रिटेन पिछड़ रहा है बल्कि वह दुनिया में भारत की बढ़ती ताकत और प्रभाव के मुताबिक अपनी रणनीतियों में बदलाव करने में भी असफल रहा है| दोनों देशों के बीच संबंधों को बेहतर बनाने के उद्देश्य से जारी की गई रिपोर्ट में भारतीय पर्यटकों, छात्रों और पेशेवरों के लिए बेहतर वीजा नीति बनाकर संबंधों को सुधारने के लिए कहा गया है. यह रिपोर्ट 2019 के ब्रिटेन-भारत सप्ताह की शुरुआत से पहले ब्रिटिश संसद में 'बिल्डिंग ब्रिजेज: रीअवेकनिंग यूके-इंडिया टाइज' (Building Bridges: Reawakening UK-India ties) नाम से जारी की गई है.

ब्रिटिश संसदीय रिपोर्ट में कहा गया है कि उभरते भारत के साथ बेहतर संबंधों की वैश्विक दौड़ में ब्रिटेन पिछड़ रहा है और द्विपक्षीय संबंधों के अवसर गंवा रहा है. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीयों के लिए ब्रिटेन की यात्रा को आसान बनाना होगा साथ ही भारत के साथ संबंधों में बेहतरी के लिए सरकार को कुछ ठोस कदम उठाने होंगे, वीजा के मामले पर रिपोर्ट में कहा गया कि चीन जैसे गैर-लोकतांत्रिक देश के मुकाबले भारत को ज्यादा कड़े नियमों का पालन करना पड़ता है, इसमें बदलाव करने चाहिए.

संसदीय रिपोर्ट में कहा गया कि ब्रिटेन को हर तरह से दोनों देशों के बेहतर द्विपक्षीय संबंधों का फायदा मिलेगा, लेकिन नई दिल्ली तक सही संदेश नहीं पहुंच पाने की वजह से दोनों देश इस मामले में ठोस कदम नहीं उठा पा रहे हैं,गौरतलब है की ब्रिटेन यूरोपीय संघ छोड़ने की तैयारियां कर रहा है, ऐसे में संबंधों में सुधार करने का वक्त आ गया है. ब्रिटेन आधुनिक साझेदारी के लिए ऐतिहासिक संबंधों पर भरोसा नहीं कर सकता.इसीलिए यह संबंधो में सुधार का बिलकुल सही वक़्त है|


Tik Tok ने मार्केट में लांच किया अपना  स्मार्टफ़ोन

सरकार के फैसले पर पाक ने जताया विरोध, कहा जाएंगे अंतरराष्ट्रीय कोर्ट


 VT PADTAL