VT Update
16 नवम्बर को शहडोल में होंगे नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी कांग्रेस विधायक सुन्दरलाल तिवारी ने आरएसएस को कहा आतंकी संगठन,कांग्रेस का बयान से किनारा रीवा में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र शुक्ल ने कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्र को दिया कानूनी नोटिस। 50 करोड़ का कर सकते हैं दावा। आबकारी उड़नदस्ता टीम ने की बड़ी कार्यवाही, नईगढ़ी व पहाड़ी गाँव में कच्ची शराब भट्टी में मारी रेड, 200 लीटर कच्ची शराब के साथ पांच आरोपी गिरफ्तार विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र एस एस टी टीम की कार्यवाही जारी, चेकिंग के दौरान चार पहिया सवार के कब्जे से बरामद हुए 2लाख 19 हज़ार रुपये, निर्वाचन कार्यालय भेजा गया मामला
Thursday 2nd of November 2017 | एलपीजी सिलेंडर फिर से हुआ महंगा

एलपीजी सिलेंडर फिर से हुआ महंगा, एटीएफ की कीमतों में 4 फीसद हुआ इजाफा 


नई दिल्ली। सरकार ने पिछले साल जुलाई में हर महीने कीमत बढ़ाकर गैस सिलिंडर पर सब्सिडी खत्म करने का निर्णय लिया था। तब से लेकर अबतक 19वीं बार कीमत में हुए इजाफे के मुताबिक घरेलू रसोई गैस का सब्सिडीयुक्त 14.2 किलोग्राम का एक सिलिंडर अब 495.69 रुपये में मिलेगा। बिना-सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलिंडर की कीमत 93 रुपये बढ़कर 742 रुपये प्रति सिलिंडर हो गई है। इससे पहले आखिरी बार 1 अक्तूबर को इसकी कीमत 50 रुपये बढ़ाकर 649 रुपये की गई थी। यह एटीएफ की कीमतों में लगातार तीसरा इजाफा है। इससे पहले बीते 1 सितंबर को एटीएफ की कीमतों में 4 फीसद का इजाफा हुआ था। तब उसकी कीमत 1,910 रुपए प्रति किलो लीटर थी।

एटीएफ के साथ ही सब्सिडाइज्ड कुकिंग गैस सिलेंडर में भी 1.50 रुपए प्रति सिलेंडर का इजाफा हुआ है। आपको बता दें कि सरकार ने तेल कंपनियों को आदेश दिया है कि वो एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में नियमित तौर पर इजाफा करें ताकि मार्च 2018 तक इस पर सब्सिडी को पूरी तरह से खत्म किया जा सके। राजधानी दिल्ली में अब सब्सिडाइज्ड 14.2 किलो एलपीजी सिलेंडर की कीमत 488.68 रुपए होगी। आईओसी के मुताबिक इससे पहले इसकी कीमत 487.18 रुपए प्रति सिलेंडर थी।

अब राजधानी दिल्ली में आपको प्रति किलोलीटर एटीएफ के लिए 53,045 रुपए देने होंगे। यह पिछली कीमत से 3,025 रुपए प्रति किलो लीटर ज्यादा है। पहले एटीएफ की कीमत 50,020 रुपए किलो प्रतिलीटर थी। देश की सबसे बड़ी ईंधन रिटेलर इंडियन ऑयल कार्पोरेशन की ओर से कीमतों में वृद्धि की अधिसूचना जारी की गई है।


 


जिस पत्रकारिता का कभी स्वर्णिम युग ना था , उसमे स्वर्णिम व्यक्तित्व की तरह उ

अटल जी के निधन से आहत हुआ देश !


 VT PADTAL